ताज़ा खबर
 

40 साल से ​​​महिलाओं पर फेंक रहा था स्पर्म, पुलिस के हत्थे चढ़ा

दोषी ने अदालत में कहा, 'मैं सिर्फ अंदाजा लगा सकता हूं कि जिस पहली महिला के साथ मैंने ऐसा किया वो महिला का किरदार मेरे दिमाग में बेहद नकारात्मक था।'

प्रतीकात्मक तस्वीर।

अमेरिका में महिलाओं पर स्पर्म फेंकने के एक दोषी को जेल भेज दिया गया है। माइकल मोरिस नाम का यह शख्स पिछले 40 साल से इस घृणित अपराध को अंजाम दे रहा था। यह शख्स सुपर मार्केट, शॉपिंग सेंटर और बसों में अपने शिकार का पीछा करता था फिर उनपर स्पर्म फेंक देता था। इस शख्स ने अदालत में दावा किया कि उसे अपनी इस हरकत की वजह पता नहीं है। अदालत ने उसे तीन से 6 साल तक की जेल की सजा सुनाई है। अंग्रेजी वेबसाइट मेट्रो यूके की खबर के मुताबिक इस शख्स ने अदालत में कहा, ‘मैं सिर्फ अंदाजा लगा सकता हूं कि जिस पहली महिला के साथ मैंने ऐसा किया वो महिला का किरदार मेरे दिमाग में बेहद नकारात्मक था।’ शख्स ने कहा कि वह बहुत दुखी है, उसने सॉरी बोलते हुए कहा, ‘अगर मैंने किसी को पीड़ा पहुंचाई या दुख दिया तो मैं माफी चाहता हूं।’

अमेरिका के पेंसिलवानिया में जज ने सजा सुनाते हुए कहा कि यह शख्स काफी समय से इस सजा के काबिल था, ये घटिया किस्म की मानसिकता है, मुझे नहीं लगता है कि इतने सालों तक मेरे इस पेशे में मैने किसी को ऐसा व्यवहार करते देखा।’ बता दें कि इस शख्स को पुलिस ने फरवरी 2016 में गिरफ्तार किया था, गिरफ्तारी से पहले इस शख्स ने पेंसिलवानिया के बेथलहेम में एक महिला दुकानदार के साथ ऐसी हरकत की थी। गिरफ्तारी के बाद जब इसका डीएनए टेस्ट किया गया तो दो ऐसी ही घटनाओं में इसके शामिल होने के सबूत मिले।

बता दें कि 2006 से पहले मौरिस की ये हरकत यौन अपराधों की कैटेगरी में नहीं आती थी, इसके बाद सेमिनल फ्लूइड लॉ नाम का ये एक नया कानून बनाया गया। सरकारी वकील ने बताया कि मौरिस की हरकतों की वजह से पीड़ित महिलाएं खौफ में थीं, वह पब्लिक ट्रांसपोर्ट इस्तेमाल करने से बचती थीं। कई महिलाएं डिप्रेशन का शिकार हो गईं थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App