ताज़ा खबर
 

8 साल का सीरियल किलर: पहले दुधमुंही बहन, फिर चचेरे भाई को मारा, वजह सुनकर पुलिस भी रह गई हैरान

8 साल के अमरदीप ने पहले अपनी 6 महीने की बहन को सिर पर पत्थर से वार करके मार डाला था और बाद में उसकी लाश को खेत में दबा दिया था। इसके बाद उसने दूसरा शिकार अपने चचेरे भाई को बनाया।

अमरदीप हर गुनाह को कबूल करने पर पुलिस से बदले में बिस्किट मांगता था।(फोटो सोर्स- यूट्यूब)

इतिहास में ऐसी कई सीरियल किलिंग की घटनाएं हुई हैं जिनके बारे में जानकर आज भी लोग सिहर जाते हैं। आज हम आपको ऐसे ही सीरियल किलर के बारे में बता रहे हैं जिस पर शक करना भी बेवकूफी लगता था। जी हां, क्योंकि इस सीरियल किलर की उम्र महज 8 साल की थी। यकीन करना मुश्किल है लेकिन यही सच है। इस 8 साल के मासूस दिखने वाले वाले बच्चे ने एक नहीं बल्कि 3 लोगों को दर्दनाक मौत दी थी। यहां तक कि इन तीन लोगों में 2 बच्चों के साथ 1 बड़ी उम्र का व्यक्ति भी शामिल था। आइए बताते हैं इस छोटे सीरियल किलर के बारे में ऐसी बाते जिनपर विश्वास करना भी मुश्किल है।

दरअसल साल 2007 में बिहार के बेगूसराय के मुसहरी गांव में एक के बाद एक दो मासूम बच्चों का कत्ल हुआ और हत्यारे का कोई अता-पता नहीं चल पा रहा था। गांव में दहशत का महौल बन गया था लेकिन इसके बाद एक जवान व्यक्ति के कत्ल ने सभी को हैरान कर दिया। गांव में लगातार हो रही रहस्मयी तरीके से मौतों ने हर किसी को हैरत में डाल दिया था।

पुलिस ने सभी हत्याओं की जांच और कातिल सबके सामने था लेकिन कोई विश्वास नहीं कर पा रहा था। क्योंकि इन तीनों हत्याओं का कातिल महज 8 साल का बच्चा था, जिसका नाम अमरदीप सदा था। ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ की रिपोर्ट के मुताबिक 8 साल के अमरदीप ने पहले अपनी 6 महीने की बहन को सिर पर पत्थर से वार करके मार डाला था और बाद में उसकी लाश को खेत में दबा दिया था।

इसके बाद उसने दूसरा शिकार अपने चचेरे भाई को बनाया। जब पुलिस ने अमरदीप सदा से इन हत्याओं की वजह पूछी तो जवाब सुन वो भी हैरान रह गए। इस मिनी सीरियल किलर ने बताया कि लोगों को मारने में उसे मजा आता था और इसी मजे के लिए वह लोगों को मारता था।


कहा जाता है कि अमरदीप हर गुनाह को कबूल करने पर पुलिस से बदले में बिस्किट मांगता था और पुलिस उसे बिस्किट देकर हर मर्डर की सच्चाई जानती थी। इस केस की जांच करने वाले पुलिस अधिकारी ने भी माना था कि उनके सामने इससे पहले कोई ऐसा केस नहीं आया था। इस कातिल बच्चे पर पुलिस की डांट का भी कोई असल नहीं होता था। खैर, सुनवाई के दौरान माना गया है कि इस बच्चे को सही और गलत का कोई अंदाजा नहीं है और बाद में उसे बाल सुधार गृह में भेज दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App