ताज़ा खबर
 

पर्यटन की खातिर

किसी भी अर्थव्यवस्था की वृद्धि करने में कृषि, उद्योग और सूचना प्रौद्योगिकी के साथ-साथ एक और क्षेत्र का महत्त्वपूर्ण योगदान होता है ...

किसी भी अर्थव्यवस्था की वृद्धि करने में कृषि, उद्योग और सूचना प्रौद्योगिकी के साथ-साथ एक और क्षेत्र का महत्त्वपूर्ण योगदान होता है और वह है पर्यटन। झरनों और नदियों से भरपूर भारत की प्राकृतिक खूबसूरती, पारंपरिक मेले, सामानों से सजे बाजार, ऐतिहासिक इमारतें, प्राचीन विरासत, कहीं रेगिस्तान तो कहीं समुद्र सैलानियों को लुभाता है। हमें बचपन से ‘अतिथि देवो भव’ का भाव सिखाया जाता है। ‘अतुल्य भारत !’ का भाव लिये भारत जैसे सांस्कृतिक, भौगोलिक विविधता वाले देश मे पर्यटन की असीम संभावनाएं हैं।

पर्यटन क्षेत्र के प्रति सरकार को ध्यान देने की आवश्यकता है। जैसे भारत में बहुत कम हवाई अड्डे अंतरराष्ट्रीय हैं। कुल सड़कों में मात्र बारह फीसदी विश्वस्तरीय हैं। महिला सैलानियों के साथ बढ़ते यौन हिंसा के मामले, स्वच्छता संबंधी समस्याएं, लचर मेहमाननवाजी, वीजा प्रक्रिया में देरी, कई ऐसे ऐतिहासिक स्थल जो खस्ता हालत में हैं।

निवास और खान-पान संबंधी अव्यवस्था जैसी कमियों को अगर दूर कर लिया जाए तो निश्चित तौर पर भारत का पर्यटन क्षेत्र विश्व-स्तर पर प्रशंसनीय हो सकता है। सर्वधर्म समभाव लिये हुए भारत में विभिन्न धार्मिक पर्व भी पर्यटन बढ़ाते हैं। भारत के पास अपार अवसर हैं, लेकिन हमें एक लंबी दूरी तय करने के लिए तैयार रहना होगा।
’लोकेश सिंह, खंडवा, म.प्र.

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta
ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta –

Next Stories
1 BCCI अध्यक्ष बनेंगे शशांक मनोहर, 4 अक्टूबर को होगी स्पेशल मीटिंग
2 घड़ियाली आंसू
3 न्याय का तकाजा
ये पढ़ा क्या?
X