ताज़ा खबर
 

चौपाल: गांधी मार्ग

चाहे किसान आंदोलन हो, मजदूर आंदोलन, छात्र आंदोलन या फिर सीएए-एनआरसी, हर मुद्दे पर आंदोलन या तो गलत रास्ते पर भटक जा रहा है या उसे जान-बूझ कर भटका कर आंदोलनकारियों का दमन कर दिया जा रहा है।

Mahatma Gandhi Quotes: महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 में हुआ था (फाइल फोटो)

गांधीजी की पुण्यतिथि पर उनके द्वारा आंदोलन के दौरान अपनाने वाले तरीकों पर ध्यान देना अनिवार्य हो गया है। वर्तमान समय में लोगों के बीच असहनशीलता का भाव चरम पर है। रोज खबरों में देखने को मिलता है कि छोटी-छोटी बात पर लोग हत्या तक कर देते हैं। आंदोलन जो भी हो रहे हैं, उसमें हिंसा का समावेश कहीं न कहीं से हो ही जा रहा है।

इसका कारण यह है कि आंदोलन करने वाले नेता या तो अपने कार्यकर्ताओं को नियंत्रित नहीं कर पा रहे हैं या आंदोलन के नाम पर हिंसा फैलाने वाले षड्यंत्रकारियों को समय रहते पहचानने में असफल हो रहे हैं। चाहे किसान आंदोलन हो, मजदूर आंदोलन, छात्र आंदोलन या फिर सीएए-एनआरसी, हर मुद्दे पर आंदोलन या तो गलत रास्ते पर भटक जा रहा है या उसे जान-बूझ कर भटका कर आंदोलनकारियों का दमन कर दिया जा रहा है।

सरकार की गलत नीतियों का विरोध करना जनता का अधिकार ही नहीं, बल्कि कर्तव्य भी है, क्योंकि जनता का सबसे बड़ा शोषक राज्य ही होता है। वर्तमान में देश में जैसे हालात हो रहे हैं, उसमें आंदोलनकारियों ही नहीं, बल्कि आम जनता को भी गांधीजी के अपनाएं रास्तों का अनुसरण करना चाहिए। गांध जी ने कहा था कि हमें बुरे विचार और बुरे कर्म से नफरत करना चाहिए, व्यक्ति या समुदाय से नहीं। यही बात आंदोलन में भी लागू होती है।

गांधीजी सत्य, अहिंसा, प्रेम से क्रूर ब्रिटिश सरकार की नींव खोद दी। हिंसा किसी भी समस्या का हल नहीं होता और सरकार को भी किसानों के हित और राष्ट्रहित को समझना चाहिए।
’गंगाधर तिवारी, लखनऊ, उप्र

Next Stories
1 चौपाल : उम्मीद का बजट
2 चौपाल: बाद के सवाल
3 चौपाल: भरोसे की खातिर
ये पढ़ा क्या?
X