scorecardresearch

सवालों का आईना

सोनू ने जो बातें सीएम नीतीश से कहीं, वह हमारे लचर प्रशासनतंत्र की पोल खोल रही हैं।

बिहार के नालंदा जिले के गांव निमापुर के कक्षा पांच के छात्र सोनू को जब पता चला कि मुख्यमंत्री अपने गांव कल्याण बगहा आ रहे हैं, तो वह उनसे मिलने वहां गया। उसने मुख्यमंत्री से पढ़ाने वाले शिक्षकों की शिकायत की, जो पढ़ा-नहीं पाते। उसने किसी अच्छे स्कूल में पढ़ने की व्यवस्था कराने की मांग की। दूसरी मांग उसने अपने पिता को जेल भेजने की की, जो शराब पीते हैं। वह पढ़-लिखकर आइएएस बनना चाहता है। उसे पता है कि आइएएस बन कर वह शिक्षा और सामाजिक बुराइयों को दूर कर सकता है। हमारे भारतीय प्रशासनिक सेवाओं के अधिकारियों को सोचना चाहिए जो सेवा में हैं। अगर वे अपने दायित्वों का पालन करें, तो हर व्यवस्था में क्रांतिकारी परिवर्तन हो सकता है।

सोनू ने जो बातें सीएम नीतीश से कहीं, वह हमारे लचर प्रशासनतंत्र की पोल खोल रही हैं। बिहार में शराबबंदी है। फिर भी शराब अवैध रूप से बिक रही है और लोग इसे पीकर बीमार हो रहे हैं। कई बार लोगों के मरने की खबरें आती हैं। सरकारी विद्यालय में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का अभाव और निष्क्रिय प्रशासन के कारण शराब बिकने का मुद्दा उठाकर सोनू देश में छा गया। उसकी मदद के लिए देश के दानवीरों ने हाथ बढ़ाया।

अभिनेता सोनू सूद ने उसकी पढ़ाई का जिम्मा उठाते हुए उसका नाम अच्छे विद्यालय में लिखवा दिया और छात्रावास में रहने की व्यवस्था भी करा दिया। लेकिन बिहार के बच्चे ने जो सवाल उठाए, वे चिंतनीय हैं। देश में अब तक हजारों सरकारी स्कूल बंद हो चुके हैं, जबकि निजी स्कूलों की संख्या बढ़ती जा रही है जो अंग्रेजी में शिक्षा देने के नाम पर मोटी रकम वसूलते हैं। नई शिक्षा नीति देश में लागू होने जा रही है।
कुलदीप मोहन त्रिवेदी, उन्नाव

नशे का दायरा

आज एक बार फिर पंजाब एक नए नशे के आतंक के साए में घिर गया है। जिस तरह से यहां की युवा पीढ़ी को बर्बाद करने का काम यह नशा कर रहा है, उससे बर्बादी के साथ-साथ पंजाब को काफी बदनामी भी मिल रही है। पंजाब में नशे की समस्या विकराल होती जा रही है और सरकार की ओर से उठाए जा रहे कदम नाकाफी साबित हो रहे हैं। इस नशे के कारोबार को फैलाने में जिस भी क्षेत्र से मदद मिल रही है, उसे ढूंढ़ कर आज खत्म करने की बहुत सख्त जरूरत है।

पंजाब हमेशा ही भारत का एक महत्त्वपूर्ण राज्य कहा जाता है। अंग्रेजों के शासनकाल में देश को आजादी दिलाने में पंजाब ने महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इसी तरह पंजाब में फैले आतंकवाद को खत्म करने में भी उसने सफलता प्राप्त की थी। इसलिए अब नशे के कारोबार को भी नष्ट करने में उसे ही एक बड़ी भूमिका निभाना चाहिए। इसके लिए सबसे पहले उसे इस क्षेत्र में मिल रही शासकीय मदद को जड़ से खत्म करने की बेहद आवश्यकता है।

यह देखना आवश्यक है कि किन-किन क्षेत्रों से नशे के कारोबारियों को मदद मिल रही है। उन जड़ों पर कड़ा प्रहार करने की सख्त जरूरत है। आज जनता को भी इस क्षेत्र में अपनी भूमिका निभानी चाहिए। उसका सबसे बड़ा दायित्व है कि वह जहां भी नशे का कारोबार चलता हुआ देखे, इसकी सूचना पुलिस और सेना के आला अधिकारियों को अवश्य दे। तभी नशे का कारोबार पंजाब से समाप्त हो सकेगा।
मनमोहन राजावत राज, शाजापुर

पढें चौपाल (Chopal News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट