ताज़ा खबर
 

चौपाल: भ्रष्टाचार की छांव

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत राजीव गांधी ने एक बार कहा था कि ‘सरकार एक रुपया भेजती है, लोगों तक पंद्रह पैसे पहुंचते हैं’। समय बीतता गया। सरकारें आर्इं और गर्इं। फिर हमने वर्तमान डिजिटल युग में प्रवेश किया।

Author Updated: January 7, 2021 11:04 AM
corruptionसंकेतात्‍मक फोटो।

वर्तमान सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने के अनेक दावे किए। फिर भी वैश्विक भ्रष्टाचार सूचकांक 2019 में एक सौ अस्सी देशों की सूची में हमारा नंबर अस्सीवां रहा। अक्तूबर 2020 में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण नितिन गडकरी ने कहा था कि पचास करोड़ की यह परियोजना 2008 में तय की गई थी, जो 2020 में पूरी हुई, क्योंकि भ्रष्टाचार के कारण अधिकारी चीजों को अटकाते और उलझाते हैं। हाल ही में एक ऐसी हृदयविदारक घटना हुई, जिसने संवेदना को झकझोर दिया।

उस घटना में पच्चीस निर्दोष लोग मारे गए, जिसका मुख्य कारण केवल भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी है। अधिकारी कमीशन के चक्कर में फाइल को अटकाते हैं और ठेकेदार मुनाफाखोरी के लिए घटिया सामग्री लगाता है, जिसके नतीजे में कुछ दिनों पहले बना लेंटर भरभरा कर गिर जाता है।

किसी का अंतिम संस्कार करने आए लोगो में से पच्चीस लोग भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी के कारण मौत के द्वार में समा जाते हैं और पीछे छोड़ जाते है केवल दुख से भरी चीख-पुकार, जिनकी भरपाई कोई मुआवजा नहीं कर सकता है। इस घटना में लिप्त जो और जितने भी ताकतवर लोग हैं, उनको सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए। यही इस घटना में मृतकों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।
’सुनील कुमार सिंह, मेरठ, उप्र

कसौटी पर सेहत

शारीरिक श्रम, नियमित व्यायाम हमें स्वस्थ एवं निरोगी जीवन जीने में सहयोग करता है। कहते हैं रोजाना आधा घंटा पैदल चलने से दिल की बीमारियों, मधुमेह एवं उच्च रक्तचाप से बचा जा सकता है। आज लगता है यह सब भ्रांति एवं मिथक है।

केवल नियमित व्यायाम इस बात की गारंटी नहीं कि हमारे शरीर में कष्ट नहीं होंगे। उसके साथ हमें संयमित जीवन शैली एवं दिनचर्या के साथ-साथ खान-पान पर भी ध्यान देने की जरूरत है। अगर ऐसा नहीं होता तो भारतीय क्रिकेट के दो पूर्व कप्तानों, कपिल देव एवं सौरव गांगुली के बीमार होने की खबर को कैसे देखेंगे? क्या उनसे ज्यादा किसी ने व्यायाम किया होगा? फिर इन दोनों दिग्गजों में दिल की बीमारी का लक्षण कैसे दिखाई दे गया? मगर कुछ सप्ताह पहले कपिल देव का और कुछ दिन पहले ही सौरव गांगुली को एनजीओप्लास्टी के दौर से गुजरना पड़ा।
’जंग बहादुर सिंह, जमशेदपुर, झारखंड

Next Stories
1 चौपाल: मुश्किल सफर
2 चौपाल: स्वच्छता की खातिर
3 चौपाल: गिरते मूल्यों की फिक्र
आज का राशिफल
X