ताज़ा खबर
 

साहित्य में सियासत

बहुत से आदिवासी लेखक झारखंड और देश के अलग-अलग प्रदेशों में बैठकर अपने समाज, साहित्य और संस्कृति को लेकर दिन-रात कलम घिस रहे हैं। ऐसे लेखकों को बुलाना दिल्ली के विश्व पुस्तक मेले या इसके संचालकों को अपमान-सा लगता है। साहित्य की राजनीति देखिए, मेले में वही लेखक, लेखक मंच या अन्य जगहों पर कब्जा […]

बहुत से आदिवासी लेखक झारखंड और देश के अलग-अलग प्रदेशों में बैठकर अपने समाज, साहित्य और संस्कृति को लेकर दिन-रात कलम घिस रहे हैं। ऐसे लेखकों को बुलाना दिल्ली के विश्व पुस्तक मेले या इसके संचालकों को अपमान-सा लगता है।

साहित्य की राजनीति देखिए, मेले में वही लेखक, लेखक मंच या अन्य जगहों पर कब्जा जमाए हुए हैं जो हर मंच, हर सेमिनार से एक ही बात को दोहराते फिरते हैं। यह उनका ‘मैनेजमेंट’ नहीं तो और क्या है जिसमें ये वर्चस्ववादी लेखक आगे हैं और झारखंड और दूसरे प्रदेशों का आदिवासी लेखक अपनी आदिवासियत के चलते उनसे कोसों दूर है!

अब सवाल है कि साहित्य में वर्चस्ववाद की राजनीति के चलते उस आदिवासी लेखक, समाज, साहित्य और संस्कृति के साथ कैसे न्याय हो पाएगा?

 

बन्ना राम मीना, दिल्ली विश्वविद्यालय

 

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 वैकल्पिक राजनीति
2 सब्सिडी का खेल
3 साकी सरकार
ये पढ़ा क्या?
X