ताज़ा खबर
 

चौपाल

नाकाफी सफाई

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने लोकसभा में विपक्ष की अनुपस्थिति में जिस ढंग से भगोड़े ललित मोदी को पासपोर्ट दिलवाने में किए गुनाह पर...

शोषण की खेती

किसानों को एक किलो प्याज के दस रुपए मिले लेकिन वही प्याज उपभोक्ता तक चालीस रुपए प्रति किलो के हिसाब से पहुंचता है। किसानों...

जल और कल

भूजल का गिरता स्तर पर्यावरणविदों के साथ समाज के सभी लोगों के लिए चिंता का सबब बना हुआ है। बहते पानी के स्रोतों का...

घर के पास

कर्मचारी चयन आयोग द्वारा लिपिक या सहायक आदि पदों के लिए चयनित लड़कियों-महिलाओं की नियुक्ति उनके निवास स्थान या गृहनगर के आसपास न होकर...

संसद में गतिरोध

भारतीय संसद के कामकाज में विपक्ष के हंगामे और शोर-शराबे के कारण बाधा पड़ना कोई नई बात नहीं है। संसद के मौजूदा मानसून सत्र...

द्वेषपूर्ण कार्रवाई

क्या राष्ट्रमंडल संसदीय संघ पाकिस्तान की बपौती है जो उसने संघ के इकसठवें अधिवेशन की मेजबानी करते हुए भारत के सभी राज्यों के विधानसभा...

विकास की बलि

अलका कौशिक का लेख ‘संसार के पार संसार’ (दुनिया मेरे आगे, 5 अगस्त) पढ़ा। उन्होंने सही कहा कि विषम परिस्थितियों के चलते ही हर...

जैसे को तैसा

पाकिस्तान की ओर से लगातार संघर्षविराम का उल्लंघन भारत के लिए चिंता का विषय होना चाहिए। पाकिस्तान ने पिछले दिनों चौदह बार संघर्षविराम का...

दूरदर्शिता की मिसाल

उत्तराखंड के चमोली जिले में अलकनंदा नदी की एक सहायक नदी है विरही गंगा। सवा सौ साल पहले इस नदी में करीब की एक...

बाढ़ के रास्ते

ग्रीष्म ऋतु प्रारंभ होने के पूर्व ही देश के कई हिस्सों में पानी का संकट शुरू हो जाता है। पानी की आपूर्ति दो-तीन दिन...

शिक्षा के सरोकार

जापान, अमेरिका, इंग्लैंड जैसे देशों की शिक्षा-व्यवस्था पर गौर करें तो एक बात आईने की तरह साफ हो जाती है। वहां राष्ट्रप्रेम की भावना...

बेमानी बयान

केंद्रीय खाद्य मंत्री राम विलास पासवान मैगी के बाजार में फिर से आने का ऐसे बयान दे रहे हैं, जैसे वे उसके बाजार प्रबंधक...

संकीर्णता के विरुद्ध

तीन अगस्त के अंक में ‘गाय का अर्थशास्त्र’ लेख के जरिए पहली बार गाय की उपयोगिता के संदर्भ में वैज्ञानिक तथ्य सामने आए हैं...

मेट्रो की मिसाल

मेट्रो ने बदरपुर-फरीदाबाद लाइन पर नौ स्टेशनों को सौर ऊर्जा से संचालित करने का फैसला किया है। इन सारे स्टेशनों पर सोलर पैनल भी...

हमारी भी सोचें

हम अपना खून पसीना एक करके पैसा कमाते हैं और उसके बाद कभी यातायात शुल्क तो कभी शिक्षा शुल्क, कभी जीवन बीमा और पता...

कथनी बनाम करनी

अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली को साफ-सुथरी सरकार देने का वादा किया था लेकिन सबसे पहले उनके ही कानून मंत्री को जेल का रुख करना...

बौद्धिक उग्रवाद

के. विक्रम राव के लेख ‘गांधी की फिक्र किसे है!’ (14 जुलाई) में शोध की महक कम और क्रोध की गंध अधिक है। विचार...

विरोध की सजा

उत्तर प्रदेश में आत्महत्या करके भी यहां कुछ नहीं मिलता। ओलावृष्टि के दौरान किसानों ने आत्महत्याएं कीं, परिवारजन रोए-चिल्लाए पर किसी का दिल नहीं...