ताज़ा खबर
 

चौपाल

चौपाल: विलंबित न्याय

बेहतर होगा कि न्यायपालिका, कार्यपालिका और साथ ही विधायिका यह महसूस करें कि न्यायिक तंत्र की मौजूदा स्थिति देश के अपेक्षित विकास में रोड़े...

चौपाल: इस बजट में

इस बजट ने आम आदमी पर प्रत्यक्ष भार नहीं बढ़ाया है और छोटे व्यापारियों व असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को पेंशन के माध्यम से...

चौपाल: हमारा पर्यावरण

पेड़ लगाते हुए फोटो खींच कर सोशल मीडिया पर डालने और छपवाने से ही धरती पर हरियाली नहीं आने वाली। हमें पर्यावरण की रक्षा...

चौपाल: भ्रष्टाचार पर नकेल

परियोजनाओं में स्थानीय जनप्रतिनिधियों, पंचायतों और प्रभावशाली समूहों को शामिल करना होगा। हर विभाग में व्याप्त अनावश्यक कानूनों व प्रशासनिक बाधाओं को समाप्त करना...

चौपाल: बजट से उम्मीदें

बेरोजगारों को उम्मीद है कि सरकार रोजगार के लिए नए विकल्प लाएगी। इस तरह हर क्षेत्र को अलग-अलग उम्मीदें हैं। देखते हैं, सरकार लोगों...

चौपाल: मील का पत्थर

समाज में शिक्षा की पहुंच हर तबके तक सुनिश्चित करने के लिए प्राथमिक स्तर से उच्च माध्यमिक स्तर तक निशुल्क एवं अनिवार्य शिक्षा प्रदान...

चौपाल: बढ़ती तल्खी

भारत में लेन-देन करने वाली हर कंपनी के लिए स्थानीय स्तर पर डाटा रखना अनिवार्य कर दिया गया है। साथ ही, ई-कॉमर्स के नियमों...

चौपाल: हमारा दायित्व

इन तमाम बातों से निष्कर्ष निकाला जाए तो साफ हो जाता है कि अब हमारे अंदर का इंसान बहुत बदल गया है। उसकी इंसानियत...

चौपाल: बीच भंवर में

मगर चीन ने अपनी एक संतान नीति 2015 में ही समाप्त कर दी थी क्योंकि उस नीति से देश में युवा आबादी की तुलना...

चौपाल: जलवायु की फिक्र

जलवायु परिवर्तन जनित समस्याओं से अमेरिका अच्छी तरह वाकिफ है फिर भी इस समझौते के प्रति उसका उदासीन होना अफसोसनाक है। अमेरिका के राष्ट्रपति...

असुरक्षित महिलाएं 

थॉमसन रूटर फाउंडेशन की रिपोर्ट में भारत को महिलाओं के लिए सबसे खतरनाक देश की सूची में रखा है। इस रिपोर्ट के मुताबिक भारत...

जेल में हिंसा

उत्तर प्रदेश में पिछले कुछ महीनों में जेलों में हत्या जैसी घटनाएं सामने आई हैं। हाल उन्नाव की जेल में एक कैदी पिस्टल लहराता...

चौपाल: प्लास्टिक पर प्रतिबंध

भारत में प्लास्टिक उद्योग आज सवा दो लाख करोड़ रुपए तक पहुंच गया है। इस उद्योग में पचास लाख से ज्यादा लोग लगे हैं।...

जनसत्ता चौपाल: जिम्मेदार कौन?

पिछले दिनों झारखंड में एक अल्पसंख्यक नौजवान को जिस तरह पीट-पीट कर मारा डाला गया, उसकी जिम्मेदारी कौन लेगा- केंद्र सरकार या झारखंड सरकार...

चौपाल: गरीब की जान

क्या गरीबों की जिंदगी का कोई मूल्य नहीं रहा? कब तक वाहन चालकों द्वारा अमानवीय लापरवाही बरती जाएगी? कोई उपाय नहीं होने पर सड़क...

चौपाल: जल से ही कल

आज भारत का सत्तर प्रतिशत वर्ग ऐसा है, जिसे स्वच्छ पानी मुहैया नहीं हो पाता है। पचास फीसद भारत का भूभाग जल की भयंकर...

चौपाल: जनसंख्या का विस्फोट

एक मोटे अनुमान के मुताबिक देश में रोजाना लगभग बीस करोड़ लोग खाली पेट सोते हैं और सत्तर करोड़ से अधिक लोग गरीबी रेखा...

चौपाल: अमानवीय करतूत

श्रम कानूनों को कमजोर कर निजीकरण को बढ़ावा दिए जाने के इस दौर में असंगठित मजदूरों का शोषण अमानवीय रूप लेता जा रहा...