चौपाल

कश्मीर का सच

कश्मीर का सच कुछ दिनों पहले सोशल मीडिया की एक साइट पर पढ़ने को मिला कि सरदार वल्लभभाई पटेल कश्मीर को पाकिस्तान को दे...

सफाई की खातिर

सफाई की खातिर इन दिनों देश में जोर-शोर से स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है। क्या नेता क्या उद्योगपति, सब झाड़ू थामे फोटो खिंचाते...

मोदी की सियासत

मोदी की सियासत जब लालबहादुर शास्त्री प्रधानमंत्री थे तब देश में अन्न की कमी थी। शास्त्रीजी ने इच्छा व्यक्त की कि अगर हम सब...

योग्यता की तलाश

जनसत्ता 22 अक्तूबर, 2014: वाराणसी की एक घटना यह सिद्ध करती है कि हमारे देश में पठन-पाठन का माहौल किस प्रकार बिगड़ चुका है,...

अंधेरे में तीर

जनसत्ता 22 अक्तूबर, 2014: हरियाणा और महाराष्ट्र के चुनाव नतीजों के तुरंत बाद अलग-अलग टीवी चैनलों पर चुनाव विश्लेषकों और पार्टी प्रवक्ताओं ने विभिन्न...

इसमें खास क्या

जनसत्ता 20 अक्तूबर, 2014: भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपनी पहली शिखर स्तरीय बैठक में भारत, अमेरिका द्विपक्षीय संबंधों...

कथनी और करनी

जनसत्ता 20 अक्तूबर, 2014: उद्धव ठाकरे ने सही कहा कि जब एक चाय वाला प्रधानमंत्री बन सकता है तो मैं क्यों मुख्यमंत्री नहीं बन...

आतंक की दस्तक

जनसत्ता 17 अक्तूबर, 2014: खबर है कि विश्वभर के देशों के लिए दरिंदगी का पर्याय बन चुके आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट आॅफ इराक एंड...

शिक्षा का हाल

जनसत्ता 17 अक्तूबर, 2014: निर्धन छात्राओं को गुणवत्तायुक्त और तकनीकी शिक्षा देकर आत्मनिर्भर बनने के लिए ब्लाक मुख्यालयों पर कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय खोले...

भारतीय विद्याओं की सुध

जनसत्ता 16 अक्तूबर, 2014: पिछले पचास-पचपन वर्षों में भारतीय विद्याओं के स्तर में निरंतर ह्रास हुआ है। गुलामी के लंबे दौर के बाद देश...

बीमारियों का भोजन

जनसत्ता 16 अक्तूबर, 2014: दूषित खानपान, जंक फूड की लत और उसकी वजह से बढ़े जीवन-शैली के रोगों ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य को बुरी तरह...

दवा से दूर

जनसत्ता 15 अक्तूबर, 2014: सार्वजनिक स्वास्थ्य योजनाओं के लक्ष्य तक न पहुंच पाने का सबसे बड़ा कारण सरकारी संस्थाओं की काहिली है। अस्पतालों में...

कौन रोकेगा

जनसत्ता 15 अक्तूबर, 2014: खबर है कि प्रधानमंत्री के सपने को साकार करने के लिए खाद्य प्रसंस्करण विभाग सक्रिय हो गया है। वह सपना...

सफाई का सवाल

जनसत्ता 14 अक्तूबर, 2014: प्रधानमंत्री का स्वच्छता अभियान अपने इरादों में कितना भी नेक क्यों न हो, इसे जिस रूप में चलाया जा रहा...

त्योहार मनाइए लेकिन

जनसत्ता 14 अक्तूबर, 2014: मानव जीवन में हर्ष और उल्लास के लिए पर्वों और त्योहारों का अपना महत्त्व है लेकिन उसके साथ अवैज्ञानिक मिथकों...

कथनी बनाम करनी

जनसत्ता 14 अक्तूबर, 2014: मोदी कहते हैं कि नानाजी देशमुख चुनाव लड़ने के लिए पंद्रह सौ रुपए देते थे। यदि मुद्रास्फीति को भी हिसाब...

अंधेरे में तीर

जनसत्ता 13 अक्तूबर, 2014: तवलीन सिंह ने अपने लेख ‘जिहाद पर उदार’ (वक्त की नब्ज, 7 सितंबर) की शुरुआत में ही लिखा कि ‘इसलिए...

मौत की गुत्थी

जनसत्ता 13 अक्तूबर, 2014: सुनंदा पुष्कर की मौत का मुद्दा एक बार फिर तूल पकड़ रहा है। डॉक्टरों और पुलिस की रिपोर्ट चाहे कुछ...