ताज़ा खबर
 

चौपाल

मंगल और विज्ञान

जनसत्ता 26 सितंबर, 2014: यह कोई नई बात नहीं है, इससे पहले भी तरह-तरह के बेतुके तर्क दे-देकर विज्ञान को खारिज करने की तमाम...

परंपरा की जकड़

जनसत्ता 26 सितंबर, 2014: जिन बालक और बालिकाओं की खेलने-कूदने और पढ़ने की उम्र होती है, उस उम्र में, परंपरा कहें या मां-बाप का...

हिंदी के साथ

जनसत्ता 25 सितंबर, 2014: दिलीप खान ‘हिंदी की मुश्किलें’ (21 सितंबर) में लिखते हैं-‘सामाजिक विज्ञान से लेकर दूसरे अनुशासनों में अनुवादों को छोड़ दें...

समाज की तस्वीर

जनसत्ता 25 सितंबर, 2014: फिलस्तीनी नागरिकों की जघन्य हत्याओं पर पूरे माहौल में व्याप्त चुप्पी को लेकर अपूर्वानंद ने ‘खामोशी के शिविर’ (10 अगस्त)...

ठगी के खिलाफ

जनसत्ता 24 सितंबर, 2014: अपने ढाई दशक के इतिहास में भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड यानी सेबी को कई तरह की वित्तीय अनियमितताओं से...

मानव-धर्म

जनसत्ता 24 सितंबर, 2014: धर्म जब एक विचारधारा का रूप ले लेता है तो धीरे-धीरे उसका सांप्रदायिकीकरण हो जाता है। हिंदू, जैन, सिख, पारसी,...

दुश्मनी लाख सही

जनसत्ता 23 सितंबर, 2014: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भारतीय मुसलमानों के बारे में दिए एक वक्तव्य को लेकर आजकल चर्चाओं का बाजार गर्म है।...

न्याय का इंतजार

जनसत्ता 23 सितंबर, 2014: हमारे देश में अदालतों भर में कुल लंबित मामलों की तादाद सवा तीन करोड़ तक पहुंच चुकी है। मुकदमे बरसों-बरस...

दिमागी बेड़ियां

जनसत्ता 22 सितंबर, 2014: केसी बब्बर की टिप्पणी ‘अंधविश्वास का भंवर’ (दुनिया मेरे आगे, 10 सितंबर) में अंधकार के भंवर को और अधिक गहराते...

आपदा के बहाने

जनसत्ता 22 सितंबर, 2014: पिछले साल जून में आई प्राकृतिक आपदा के दौरान जो, जैसा और जितना कुछ उत्तराखंड के आपदाग्रस्त इलाकों के लोगों...

महंगाई की मार

जनसत्ता 22 सितंबर, 2014: पिछले दिनों कई प्रदेशों में विधानसभा और लोकसभा के उपचुनाव हुए जिनके परिणामों को लेकर मीडिया में बड़ी-बड़ी चर्चाएं हो...

हार का सबक

जनसत्ता 19 सितंबर, 2014: देश के विभिन्न राज्यों में हाल में हुए उपचुनावों में भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा है। इससे...

गरिमा के विरुद्ध

जनसत्ता 19 सितंबर, 2014: भारत जैसे विशाल और विकराल समस्याओं वाले देश में मोदी सरकार से सौ दिनों में चमत्कार की अपेक्षा तो नहीं...

लक्ष्य से दूर

जनसत्ता 18 सितंबर, 2014: शिक्षा का अधिकार कानून अपने लक्ष्य से काफी दूर दिखता है, तो सबसे बड़ा कारण सरकारी स्कूलों की तरफ अपेक्षित...