ताज़ा खबर
 

चौपाल

क्रिकेट का हश्र

पांच अप्रैल को रविवारी में प्रकाशित हरीश त्रिवेदी की दिलचस्प विवेचना ‘क्रिकेट और प्रेमचंद’ ने फिर साबित कर दिया कि प्रेमचंद कितने यथार्थवादी और...

ढोल की पोल

यह सर्वविदित है कि जब कोई पार्टी सत्ता में होती है तो उसके मापदंड अलग होते हैं और जब विपक्ष में होती है तो...

गांधी के साथ

रघु ठाकुर का लेख ‘गांधी-निंदा के नए प्रयोग’ (3 अप्रैल) बहुत अच्छा है। यह जरूरी भी था। काटजू साहब हलके नहीं हैं, थोड़े मूडी...

आप के सामने

अभी हाल में रोड रेज कही जाने वाली जो घटना तुर्कमान गेट दिल्ली में घटी है, उसके संदर्भ में यह बहुत जरूरी है कि...

मेवा की सेवा

राजनीति के यज्ञ में हर नेता पूर्णाहुति के बाद प्रसाद की कामना करता है। जब उसे वह नहीं मिलता है तो उसका रुष्ट होना...

खतरे की आहट

भीड़, हिंसा और अराजकता की घटनाएं जिस तेजी से बढ़ रही हैं वह किसी भी स्वस्थ समाज के लिए अच्छा संकेत नहीं है। कुछ...

इनकी जागीर

बंगलुरु में भूमि अधिग्रण अधिनियम और राहुल गांधी के मामले पर बोलते हुए अमित शाह ने केंद्र सरकार को ‘मेरी सरकार’ कह कर स्पष्ट...

आप का संकट

आंदोलन की शुरुआत आदर्श से होती है, इसलिए उसमें त्याग, लगन और समर्पण वाले लोग जुटते हैं और उसमें खुशी महसूस करते हैं, लेकिन...

योजना का हासिल

प्रधानमंत्री जनधन योजना बड़े जोर-शोर से शुरू की गई, न जाने कितने करोड़ रुपया इसके प्रचार-प्रसार पर अपव्यय हुआ। जो जानकारी उपलब्ध कराई गई...

दो सवाल

योगेंद्र यादवजी, आम आदमी पार्टी (आप) में आपने ‘स्वराज’ और ‘लोकतंत्र’ का मुद्दा उठाया इसके लिए प्रशांत भूषण, अजित झा और प्रोफेसर आनंद कुमार...

जुबान पर लगाम

मोदीजी का ‘मन की बात’ का मंत्र काफी लोगों को पसंद आ रहा है पर उनके कुछ मंत्रियों, सांसदों और पार्टीजनों के उद््गारों से...

लूट की छूट

केंद्रीय सूचना आयुक्त ने कहा है कि वे राजनीतिक पार्टियों पर कोई जुर्माना नहीं लगा सकते क्योंकि उन्होंने अपना कोई केंद्रीय जन सूचना अधिकारी...

किसान के साथ

प्रधानमंत्री ने कहा कि क्या किसान के परिवार को सम्मानित जीवन जीने का अधिकार नहीं है? इसलिए उस परिवार के सदस्य को नौकरी दी...

आप से नाउम्मीद

मेरा जुड़ाव पिछले दो दशक से स्वैच्छिक क्षेत्र से रहा है। शायद इसलिए ‘हम औरों जैसे नहीं हैं’ या ‘हम सबसे अलग हैं’ जैसे...

निंदक नियरे

आलोचना, कटाक्ष, टीका-टिप्पणी किसी भी स्वस्थ लोकतंत्र की विशेषता होती हैं। लेकिन एक सभ्य, शिक्षित और सामान्य समझ रखने वाले व्यक्ति से अपेक्षा की...

विश्वकप और हम

भावनाएं भड़कना हिंदुस्तान में कोई नई बात नहीं है, किसी भी बात को अनैतिकता का पक्षधर बता कर यहां भावनाएं भड़क जाती हैं। भावनाएं...

अपना नजरिया

जब कभी हम ऐसा कोई मैच हारते हैं जिस पर हमने भारी उम्मीदें लगा रखी थी तो हम दुखी होने के साथ-साथ अपने खिलाड़ियों...

गांधीभक्त मोदी

समय-समय पर गांधीजी का स्मरण कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनके प्रति श्रद्धा जताते रहते हैं। आस्ट्रेलिया में गांधी की मूर्ति का अनावरण करने के...