ताज़ा खबर
 

चौपालः बोझ तले बचपन

बस्ते का बोझ कम करने के लिए उठाए गए कदम का स्वागत किया जाना चाहिए।

Author March 9, 2018 2:25 AM
सरकार बरसों से चले आ रहे एक प्रयास को पूरा कर पाएगी या नहीं, यह सोचने का विषय है। आजादी के बाद से ही बच्चे बस्ते के बोझ से दबे हैं। (Photo Source- Express)

बस्ते का बोझ कम करने के लिए उठाए गए कदम का स्वागत किया जाना चाहिए। सरकार बरसों से चले आ रहे एक प्रयास को पूरा कर पाएगी या नहीं, यह सोचने का विषय है। आजादी के बाद से ही बच्चे बस्ते के बोझ से दबे हैं। यह एक प्रकार से शिक्षा के क्षेत्र में कायम कुप्रथा कहें तो कोई गलत नहीं होगा। क्या इसे खत्म करने के लिए सरकार कोई कड़ा फैसला ले पाएगी? दरअसल, बस्ते के बोझ तले दबे बच्चे आज मानसिक तनाव से ग्रस्त हो रहे हैं और साथ में शारीरिक रूप से भी कमजोर होते जा रहे हैं। सच्चाई यही है कि आज बचपन पढ़ाई के एक चक्रव्यूह में फंसा हुआ है। वह अपने आपको सही रूप से विकसित नहीं कर पा रहा है।

सवाल है कि हमारे देश के बच्चे गुणवत्ता की पढ़ाई के बजाय बस्ते का बोझ ढोने में क्यों लगे हुए हैं। हमारे देश की शिक्षा नीति की तरफ सरकारों ने ध्यान नहीं दिया है। जो शिक्षा नीति पहले थोप दी गई है, उसी को घसीटते आ रहे हैं। किसी भी देश की शिक्षा ही उसकी दिशा और दशा तय करती है। आज उस लार्ड मैकाले की शिक्षा बच्चों को पढ़ाई जा रही है, जिसने कहा था कि मैं भारत को ऐसी शिक्षा नीति दूंगा, जिससे आने वाली पीढ़ी मानसिक रूप से गुलाम होंगी। आज वही हो रहा है। उसी की देन है कि आज तक बच्चों को बस्ते से मुक्ति नहीं मिल पाई है।

HOT DEALS
  • BRANDSDADDY BD MAGIC Plus 16 GB (Black)
    ₹ 16199 MRP ₹ 16999 -5%
    ₹1620 Cashback
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 16699 MRP ₹ 16999 -2%
    ₹0 Cashback

आज जिस तरह से शिक्षा का व्यवसायीकरण हो गया है, उसी से बच्चों पर शिक्षा का दबाव बढ़ता चला गया है। छोटे बच्चों को स्कूल से इतना होमवर्क दे दिया जाता है, जिसे लेकर वे तनाव में रहने लगे हैं। शिक्षा के बोझ से बचपन छिनता जा रहा है। मासूमियत ट्यूशन ओर होमवर्क के बीच फंस कर रह गई है। बच्चे आज कई तरह के डरों का शिकार हो रहे हैं।
कभी शिक्षा पद्धति ऐसी होती थी जहां बच्चों पर पुस्तकों का बोझ कम होता था। जीवन को क्रियात्मक और ऊर्जावान बनाने पर बल दिया जाता था। आज हालत यह है कि बच्चे रीढ़ की हड्डी और कमर के दर्द से परेशान रहते हैं। इस विषय पर अभिभावकों और स्कूल संचालकों ने कभी मंथन नहीं किया कि बोझ कैसे कम हो। बच्चे उस दौर से गुजर रहे हैं कि पढ़ाई के सिवा जीवन में खुशियां और सुख के साथ संसार और सृष्टि से परिचित होने के बारे में सोच भी नहीं सकते हैं। अब देश के सभी अभिभावकों को इसके लिए अभियान चलाना होगा कि बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास सही रूप से हो।
’जयदेव राठी भराण, रोहतक, हरियाणा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App