ताज़ा खबर
 

चौपाल: नेपाल की हद

नेपाल नियम विरुद्ध अपने राजनीतिक नक्शे में परिवर्तन करके भारत में अपनी सीमा अवैध रूप से बता रहा है, जिसमें लिपुलेख, काला पानी और लिंपियाधूरा क्षेत्र शामिल है। काला पानी भारत के अधिकार क्षेत्र में करीब दो सौ साल से है।

India, Nepal, Map Dispute, PM Modiनेपाल संसद के उच्च सदन ने भी नक्शे में संशोधन से जुड़ा बिल पारित किया। (एक्सप्रेस फोटो)

आज संपूर्ण विश्व वैश्विक महामारी के कारण त्रस्त एवं चिंतित है। फिर भी इस समय पड़ोसी देश चीन, पाकिस्तान और अब नेपाल भी इनके नक्शे-कदम पर चल कर भारत के साथ विवादित नक्शे के नाम पर छलावा कर रहा है। यह भारत कभी भी स्वीकार नहीं करेगा।

नेपाल नियम विरुद्ध अपने राजनीतिक नक्शे में परिवर्तन करके भारत में अपनी सीमा अवैध रूप से बता रहा है, जिसमें लिपुलेख, काला पानी और लिंपियाधूरा क्षेत्र शामिल है। काला पानी भारत के अधिकार क्षेत्र में करीब दो सौ साल से है। फिर भी नेपाल इस पर अपना अवैध हक मनमाने तरीके से बता कर कब्जा करना चाह रहा है। यह कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

इस सबसे यही स्पष्ट होता है कि नेपाल चीन के इशारे पर यह जुमलेबाजी और अवैध विस्तारवाद की नीति लागू करके भारत को बेवजह परेशान करना चाहता है। लेकिन नेपाल सरकार को यह समझ लेना चाहिए कि वह चीनी सरकार का सहयोग करके और उससे नजदीकी संबंध बना कर अपने देश का भला नहीं कर सकते। अब समय आ गया है कि भारत नेपाल को कूटनीतिक तरीके से जवाब दे और उसकी लगातार नापाक गतिविधियों पर पैनी नजर रखें।
’महेश आचार्य, नकाश गेट, नागौर

किसी भी मुद्दे या लेख पर अपनी राय हमें भेजें। हमारा पता है : ए-8, सेक्टर-7, नोएडा 201301, जिला : गौतमबुद्धनगर, उत्तर प्रदेश
आप चाहें तो अपनी बात ईमेल के जरिए भी हम तक पहुंचा सकते हैं। आइडी है : chaupal.jansatta@expressindia.com

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 चौपाल: विपदा के वक्त
2 चौपाल: नशे का जाल
3 चौपाल: लाचार बचपन
ये पढ़ा क्या?
X