ताज़ा खबर
 

किरण बेदी: उम्मीद की किरण

देश की पहली महिला आइपीएस अधिकारी किरण बेदी के भाजपा में शामिल होने से पार्टी में खुशी और उल्लास का माहौल होना स्वाभाविक है। नेता की तलाश में भटक रही भाजपा को एक सहारा मिल गया! भाजपा को इसका तात्कालिक लाभ भी हो सकता है। किरण बेदी का किसी पार्टी में स्वागत होना, शामिल होना […]

Author January 20, 2015 2:35 PM
देश की पहली महिला आइपीएस अधिकारी किरण बेदी के भाजपा में शामिल होने से पार्टी में खुशी और उल्लास का माहौल है।

देश की पहली महिला आइपीएस अधिकारी किरण बेदी के भाजपा में शामिल होने से पार्टी में खुशी और उल्लास का माहौल होना स्वाभाविक है। नेता की तलाश में भटक रही भाजपा को एक सहारा मिल गया! भाजपा को इसका तात्कालिक लाभ भी हो सकता है। किरण बेदी का किसी पार्टी में स्वागत होना, शामिल होना इस बात का सूचक है कि अब राजनीतिक पार्टियों को समझ आ गया है कि बेईमान, भ्रष्ट, भाई-भतीजावादी या सिफारिशी राजनीति के दिन लद चुके हैं। अब राजनीति में वही टिक पाएगा जो ईमानदारी और निष्ठा से जनता की सेवा करेगा।

दूसरे शब्दों में कहें तो किरण बेदी जैसे व्यक्तित्व को कोई पार्टी नतमस्तक होकर स्वीकार करे तो आखिर यह उन्हीं सिद्धांतों और मूल्यों की जीत है जिनके लिए केजरीवाल संघर्ष कर रहे हैं। किरण बेदी को एक नागरिक के नाते पूरा अधिकार है कि वे किस पार्टी में अपना भविष्य देखती हैं।

पर खुशी का विषय यह है कि आज ईमानदारी हर पार्टी के एजेंडे में आ गई है। रामलीला मैदान की प्रधानमंत्री की रैली के परिणाम स्वरूप आखिरकार भाजपा नेतृत्व को अपनी डूबती नाव बचाने के लिए एक ईमानदार आदमी का ही सहारा लेना पड़ा या मोहरा चुनना पड़ा। किरण बेदी को काम करने का अवसर मिले तो निश्चित ही दिल्ली की जनता का भला होगा पर किरण बेदी के अब तक के रवैये और रिकार्ड को देखकर और भाजपा की मूल विचारधारा के परिप्रेक्ष्य में लगता नहीं कि वे वहां कुछ ज्यादा कर पाएंगी।

संघ शिक्षा के अभाव में संघी स्कूलों में निभना थोड़ा मुश्किल होता है। अच्छा होता कि किरण बेदी केजरीवाल के साथ व्यवस्था परिवर्तन की लड़ाई लड़तीं। शायद आम आदमी पार्टी में वे ज्यादा आजादी से काम कर पातीं। जहां सुषमा स्वराज जैसी परिपक्व और अनुभवी नेता को दरकिनार कर दिया हो वहां किरण बेदी की क्या बिसात है? फिर भी हमें आशा है कि अच्छा ही होगा।

 

यतेंद्र चौधरी, नई दिल्ली

 

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App