ताज़ा खबर
 

ईरान की अहमियत

ईरान में हाल ही हुए चुनाव में हसन रूहानी का दोबारा चुना जाना भारत और विश्व के लिए कई मायने में अहम है।

ईरान के सर्वोच्च नेता आयतुल्ला अली खामेनी। (Office of the Iranian Supreme Leader via AP)

ईरान की अहमियत
ईरान में हाल ही हुए चुनाव में हसन रूहानी का दोबारा चुना जाना भारत और विश्व के लिए कई मायने में अहम है। हसन रूहानी ने चुनाव के दौरान अपने लिए खुलेपन, परमाणु ऊर्जा और उदारवाद को मुद्दा बनाया था। उन्होंने अपने विपक्षी इब्राहिम रईसी को अच्छे अंतर से हराया। इब्राहिम रईसी कट्टर धड़े के समर्थक माने जाते हैं और पश्चिमी देशों से ज्यादा गहरे संबंधों के हिमायती नहीं रहे हैं। हसन रूहानी की जीत को फ्रांस में मैक्रॉन, दक्षिण कोरिया में मून जे की जीत के क्रम में देखा जा सकता है और कहा जा सकता है कि विश्व में अभी भी खुलेपन का महत्त्व है। ईरान भारत के लिए न केवल ऊर्जा के लिहाज से महत्त्वपूर्ण है, बल्कि यह मध्य एशिया के लिए वैकल्पिक रास्ता भी मुहैया करा रहा है। भारत ने 2002 में चाबहार पोर्ट के विकास के लिए समझौता किया था। यह पोर्ट लगभग तैयार हो चुका है। इसके माध्यम से भारत मध्य एशिया के साथ अच्छे संबंध विकसित कर सकता है। इसका महत्त्व इसलिए भी है कि चीन इसके पास ही पाकिस्तान में ग्वादर बंदरगाह का विकास कर रहा है। ईरान उत्तर-दक्षिण संपर्क मार्ग का एक अहम सदस्य है। इस मार्ग के माध्यम से भारत ईरान होते हुए रूस तक एक बहुआयामी मार्ग यानी रेल, सड़क, समुद्री रास्ता बनाने की भी योजना है। अभी स्वेज नहर वाला मार्ग भारत अपना रहा है। इस नए मार्ग के विकास से भारत मध्य एशिया, पूर्वी यूरोप तक ज्यादा तेजी से पहुंच सकेगा।
’आशीष कुमार, उन्नाव, उत्तर प्रदेश
रोशन उम्मीद
पूरी दुनिया में भारत का परचम लहराने के मामले में एक कड़ी और जुड़ गई है। भारतीय मूल की तैंतालीस वर्षीय ब्रिटिश उद्यमी ब्रिटेन में किसी नगर निगम वार्ड की पार्षद बनने वाली भारत में पैदा हुई पहली महिला बन गई हैं। इनका नाम रेहाना अमीर है और ये चेन्नई में पली-बढ़ी हैं। रेहाना ने सिटी आॅफ लंदन काउंटी के विटरी वार्ड से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। रेहाना के लंदन में पार्षद बनने से सारी दुनिया में भारतीयों की मौजूदगी और अपनी अहमियत दर्ज करने का एक मौका और दिखा है। उम्मीद की जानी चाहिए कि ऐसे उदाहरणों से विश्व स्तर में भारतीय प्रतिभाओं की पहचान बढ़ेगी।
’बृजेश श्रीवास्तव, गाजियाबाद

ब्रिटेन के मैनचेस्टर में धमाका, 19 लोगों की मौत, 50 घायल

Next Stories
1 ईमानदारी का जोखिम
2 छेड़खानी का रास्ता
3 विविधता की रक्षा
ये खबर पढ़ी क्या?
X