आतंक पर नकेल - Jansatta
ताज़ा खबर
 

आतंक पर नकेल

इराक और सीरिया के बाद आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आइएस) भारत में पैर पसारने लगा है। इस्लाम के नाम पर हजारों हत्याएं करने के बाद यह संगठन भारत सहित दुनिया के कई देशों के लिए नासूर बन कर दर्द दे रहा है और इस दर्द को झेलने वालों में अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन, इटली, जर्मनी जैसे […]

Author August 24, 2015 3:29 PM

इराक और सीरिया के बाद आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आइएस) भारत में पैर पसारने लगा है। इस्लाम के नाम पर हजारों हत्याएं करने के बाद यह संगठन भारत सहित दुनिया के कई देशों के लिए नासूर बन कर दर्द दे रहा है और इस दर्द को झेलने वालों में अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन, इटली, जर्मनी जैसे कई बड़े नाम हैं।

आइएस की निगाह ऐसे मुसलिम युवाओं पर है, जो मुसलिम राष्ट्र जहां खलीफा का राज हो, की परिकल्पना करते रहते हैं। इस आतंकी संगठन की पहली पसंद बीस से बाईस साल के मुसलिम युवा हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत और विदेशों में बैठे कुछ लोग भारतीय युवकों को संगठन में भर्ती करवा रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ आइएस कई युवाओं को आतंकी बनाने का जिम्मा सौंप चुका है।

भारत के गृहमंत्रालय ने भी इस बात को माना है कि देश से ग्यारह लोग भर्ती हो चुके हैं। खुफिया एजेंसियों के मुताबिक एक तरफ गुजरात में रह रहे दो भारतीय आइएस को संचालित करने वालों के अलावा कुछ भारतीय मुसलिम नौजवानों को आतंकी बनाने की फिराक में हैं तो दूसरी तरफ इंडियन मुजाहिदीन आइएस में भर्ती के लिए भारतीय मुसलमानों को बरगलाने का काम कर रहा है। खबरों के मुताबिक आइएस लश्कर-ए-तैयबा से भी हाथ मिला चुका है। पिछले दिनों आई अमेरिकी रिपोर्ट के मुताबिक आइएस भारत पर हमला करने की योजना बना रहा है।

भारत में आइएस के गुर्गे महाराष्ट्र, केरल, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, जैसे राज्यों में सक्रिय हैं और अभी तक उनके खिलाफ कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। हाल ही में इस संगठन ने हिंदी, उर्दू और तमिल भाषा में पुस्तक भी निकाली है और अपनी वेबसाइट पर डाला भी है। आए दिन श्रीनगर में जिहादियों के पक्ष में नारे लगाए जाते हैं। बीते दिनों लीबिया के सिर्त में आइएस द्वारा अगवा किए गए चार में से दो भारतीय नागरिकों के बारे में अब तक कोई खबर नहीं है।

देश के राजनीतिक माहौल को देख कर तो यही लगता है कि कोई सेक्युलर जमात इस विषय पर चर्चा करना चाहती है तो उसे सांप्रदायिक कह कर नकार दिया जाता है। अगर भारत ने समय रहते सतर्कता नहीं बरती तो यह आतंकी संगठन भारत के सामने बहुत बड़ा खतरा बन कर उभर सकता है।
कार्तिक सागर समाधिया, भोपाल

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App