ताज़ा खबर
 

आर्थिक आधार

भारत में जातिगत आरक्षण की शुरुआत विलियम हंटर और ज्योतिबा फुले ने 1882 में अलग-अलग प्रारूपों में की जिसे छत्रपति साहूजी ने 1901 में लागू किया..

Author प्रतापगढ़ | October 9, 2015 2:03 AM

भारत में जातिगत आरक्षण की शुरुआत विलियम हंटर और ज्योतिबा फुले ने 1882 में अलग-अलग प्रारूपों में की जिसे छत्रपति साहूजी ने 1901 में लागू किया। यह तो रही इसके इतिहास की बात। अगर वर्तमान की बात की जाए तो यह एक कभी न खत्म होने वाला मुद्दा है और वह भी बिना किसी परिणाम के।

इस प्रारूप ने बस एक काम किया है और वह है दो समाजों में अंतर। एक समाज वह जो आरक्षण का भोगी है और दूसरा वह जो उसका हकदार होकर भी उससे वंचित है। आज आरक्षण जातीय आधार पर नहीं बल्कि आर्थिक आधार पर मिलने का कानून बनाया जाना चाहिए तभी वह सही मायनों में उपयोगी होगा।
वेद शुक्ला, सैय्यदयासीनपुर, प्रतापगढ़

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta

Next Stories
1 कैसा संविधान
2 आस्था का जहर
3 बिहार मांगे विकास
यह पढ़ा क्या?
X