ताज़ा खबर
 

नशे की गिरफ्त में

वैसे तो नशा पूरे भारत में एक समस्या है, लेकिन पंजाबी नौजवानों में नशे की बढ़ती प्रवृति ने पूरे पंजाब को खतरे में डाल दिया है। पंजाब के ज्यादातर कॉलेजों और स्कूलों में नशे की लत बढ़ती जा रही है।

Author February 11, 2019 3:38 AM
प्रतीकात्मक फोटो (फाइल)

वैसे तो नशा पूरे भारत में एक समस्या है, लेकिन पंजाबी नौजवानों में नशे की बढ़ती प्रवृति ने पूरे पंजाब को खतरे में डाल दिया है। पंजाब के ज्यादातर कॉलेजों और स्कूलों में नशे की लत बढ़ती जा रही है। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि पंजाब में हर साल साढ़े सात हजार करोड़ के नशीले पदार्थों का सेवन किया जाता है। इनमें से अकेले साढ़े छह हजार रुपए की हेरोइन की खपत होती है। पंजाब में पहुंचने वाली सारी हेरोइन के आने का एक ही जरिया है, और वह है पाकिस्तान। इस रिपोर्ट के मुताबिक पंजाब दो लाख से ज्यादा लोग नशीले पदार्थों के आदी हैं। इनमें से करीब सवा लाख हेरोइन के नशेड़ी हैं, जबकि पंजाब में ड्रग्स का सेवन करने वालों की संख्या करीब नौ लाख है। रिपोर्ट के मुताबिक, पंजाब में हर दिन ड्रग्स के आदी लोग अपने नशे की खुराक के लिए करीब बीस करोड़ रुपए खर्च करते हैं, जबकि हेरोइन का आदी व्यक्ति करीब चौदह सौ रुपए रोजाना तक खर्च कर देता है। नशीली दवाओं का सेवन करने वालों में 76 फीसद 18 से 35 की उम्र के हैं। नशे की समस्या ने राज्य के भविष्य को भी अंधकारमय बना दिया है। नशे की इस लत को खत्म करने में समाज के नागरिक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।
’विक्रमजीत सिंह, बठिंडा

जहरीली शराब से मौतें
कई बार देखने में आया है कि जहरीली शराब से देश में कभी यहां तो कभी वहां मौते होती रहती हैं। हाल ही में उत्तर प्रदेश के कुशीनगर और सहारनपुर में जहरीली शराब से कई लोग मारे गए। सरकार ने कदम उठाते हुए संबंधित विभाग के अफसरों और कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। अब जांच होगी, सजा होगी या फिरलापरवाह कर्मचारी व अफसर छूट भी सकते हैं। पर उन गरीबों का क्या होगा जिनके घर उजड़ गए हैं? सवाल है कि आखिर ऐसे हादसे होते क्यों हैं? देश में ऊपर से लेकर निचले स्तर तक सरकारी विभागों में बढ़ता भ्रष्टाचार भी इन मौतों के लिए जिम्मेदार है।
’महेश नेनावा, इंदौर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App