ताज़ा खबर
 

ऐतिहासिक जीत

भारतीय क्रिकेट टीम ने ऐतिहासिक प्रदर्शन करते हुए आस्ट्रेलियाई टीम को उसी के घर में हरा कर साबित कर दिया है कि वह घर में ही नहीं बल्कि घर के बाहर भी शेर है। भारतीय टीम ने अपने उत्साह, कौशल, साहस और अनुभव के दम पर आस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम को चार टैस्ट मैचों की शृंखला 2-1 से हराकर साबित कर दिया कि वह दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टैस्ट टीम है।

Author January 9, 2019 4:33 AM
विराट कोहली (Source: Reuters)

भारतीय क्रिकेट टीम ने ऐतिहासिक प्रदर्शन करते हुए आस्ट्रेलियाई टीम को उसी के घर में हरा कर साबित कर दिया है कि वह घर में ही नहीं बल्कि घर के बाहर भी शेर है। भारतीय टीम ने अपने उत्साह, कौशल, साहस और अनुभव के दम पर आस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम को चार टैस्ट मैचों की शृंखला 2-1 से हराकर साबित कर दिया कि वह दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टैस्ट टीम है। इकहत्तर सालों के क्रिकेट इतिहास में भारत एशिया का पहला ऐसा देश बना है जिसने आस्ट्रेलिया को उसी की सरजमीं पर धूल चटाई हो। हालांकि इस उपलब्धि तक पहुंचने के लिए भारतीय टीम को 71 साल,12 टैस्ट सीरीज और 48 टैस्ट मैचों का लंबा इंतजार करना पड़ा है। आस्ट्रेलिया को उसी की धरती पर अभी तक सबसे ज्यादा इंग्लैंड ने 13 टैस्ट सीरीज में हराया है। इसके अलावा वेस्टइंडीज, दक्षिण अफ्रीका और न्यूजीलैंड ही ऐसी टीम हैं जिन्होंने आस्ट्रेलिया को उसी की धरती पर टैस्ट शृंखला में हराया हो; अब भारत भी इन शीर्ष टीमों में शामिल हो गया है।

पहला टैस्ट 31 रन से हारने के बाद आस्ट्रेलिया ने पर्थ में पलटवार करते हुए भारतीय टीम को 146 रनों से हरा दिया। पर्थ की हार के बाद भारतीय प्रसंशकों को आभास होने लगा कि आस्ट्रेलिया में टैस्ट शृंखला जीतने का सपना इस बार भी हकीकत में परिणत नहीं हो पाएगा, लेकिन विपरीत परिस्थिति में भी विराट सेना ने अपना हौसला बरकरार रखा और मेलबर्न में खेले गए तीसरे टैस्ट मैच में पलटवार करते हुए आस्ट्रेलिया को 137 रनों के भारी अंतर से हरा कर चार मैचों की टैस्ट शृंखला में 2-1 की बढ़त कायम कर ली।

यह बात दीगर है कि अगर चौथा टैस्ट मैच बारिश की वजह से बाधित नहीं होता तो जीत का अंतर 3-1 भी हो सकता था। भारतीय टीम की जीत की ऐतिहासिकता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि बधाई संदेश देने वालों में पूर्व खिलाड़ियों के साथ-साथ भारत के प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति एवं उपराष्ट्रपति भी शामिल हैं। वहीं दूसरी ओर टैस्ट सीरीज जीतने के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली का यह कथन कि ‘यह जीत मेरे लिए विश्वकप से भी बड़ी उपलब्धि है’ साबित करता है कि इस जीत का महत्त्व भारतीय खिलाड़ियों और खेल प्रेमियों के लिए क्या है। अब दक्षिण अफ्रीका ही एकमात्र अकेली ऐसी टैस्ट टीम है जिसके घर में भारतीय टीम उसके खिलाफ टैस्ट शृंखला नहीं जीत पाई है। आस्ट्रेलिया में ऐतिहासिक जीत के बाद भारतीय टीम और कप्तान कोहली से उम्मीद है कि अब दक्षिण अफ्रीका में भी भारत की जीत का ऐतिहासिक डंका बजाएंगे।
’कुंदन कुमार क्रांति, बीएचयू, वाराणसी

गरीब सवर्ण
अभी तक केवल अनुसूचित जाति/जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग आरक्षण के हकदार थे लेकिन अब से ‘गरीब सवर्ण’ भी होंगे। कुछ समझदारों ने परीक्षा की तैयारी छोड़, गरीब होने की तैयारी भी चालू कर दी होगी! कैसी विडंबना है कि जहां आरक्षण रूपी कैंसर को खत्म करना था, उसे एक नया वर्ग बना कर और भी व्यापक करने की तैयारी है। जिस कुएं को मिट्टी से भर कर खत्म करना था, उसे 10 फीसद और खोद दिया!
वाह रे चुनाव, तुम जितना करीब आते हो, देश उतना ही गरीब होता जाता है!
’अभिप्रिंस घुवारा, टीकमगढ़, मध्यप्रदेश

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App