ताज़ा खबर
 

चौपाल : कागजरहित कार्यवाही, जनसंख्या नियंत्रण और पाक का फर्जीवाड़ा

लालकिले की प्राचीर से प्रधानमंत्री ने भारत में बेतहाशा बढ़ रही जनसंख्या पर चिंता प्रकट करके इस पर नियंत्रण करने की अपील की है।

Author नई दिल्ली | Published on: August 17, 2019 2:57 AM
सांकेतिक तस्वीर।

हाल ही में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने एक और नवाचार करते हुए पहले पहल और अब घोषणा की कि 80 फीसद सांसदों ने अपनी सहमति दे दी है कि संसदीय कार्यवाही को कागज-विहीन बनाया जाए। यदि सब कुछ ठीक रहा तो उम्मीद है कि अगले सत्र से संसद में कागजी कार्यवाही के करोड़ों रुपए बचाए जा सकेंगे और देश में पर्यावरण संरक्षण का बड़ा संदेश भी जाएगा। यह कार्य सांसदों के लिए एक बड़ी तकनीकी और कार्यात्मक पहल है, लिहाजा इसे धीरे-धीरे आगे बढ़ाते हुए संसदीय कार्यवाही का शत-प्रतिशत कार्य कागजविहीन होना चाहिए। उम्मीद है कि लोकतंत्र के मंदिर से इस पहल के बाद ‘डिजिटल इंडिया’ और ‘कैशलेस’ जैसे पहलुओं को मजबूती मिलेगी और सकारात्मक संदेश जनता तक जाएगा।

’कपिल एम वड़ियार, जोधपुर

जनसंख्या नियंत्रण

लालकिले की प्राचीर से प्रधानमंत्री ने भारत में बेतहाशा बढ़ रही जनसंख्या पर चिंता प्रकट करके इस पर नियंत्रण करने की अपील की है। प्रधानमंत्री के इस संबोधन को ‘जनसंख्या नियंत्रण कानून’ बनाने की दिशा में एक संकेत के रूप में देखा जा रहा है। कड़े फैसले लेने और उन्हें सफलतापूर्वक कार्यान्वित किए जाने से उत्साहित केंद्र सरकार समस्याओं को टालने और लटकाए जाने की नीति पर कुठाराघात करके बहुप्रतीक्षित जनसंख्या नियंत्रण कानून को पारित करा दे तो अधिक आश्चर्य भी नहीं होगा।

कांग्रेस की तुष्टिकरण की नीति के विपरीत मौजूदा केंद्र सरकार कुछ अलोकप्रिय फैसले लेकर न सिर्फ देश को तेजी से विकास की राह पर ले जाने का कार्य कर सकेगी बल्कि सरकार की दृढ़ इच्छाशक्ति की भी मिसाल कायम कर सकेगी। धारा 370 हटाने और तीन तलाक के खिलाफ कानून बनाने पर सरकार को मिले प्रचंड जनसमर्थन से अभिभूत प्रधानमंत्री का इस वर्ष लालकिले से देश के नाम संबोधन सरकार के अगले पांच साल के कार्यरूप को ही प्रदर्शित करता है। आने वाले समय में केंद्र सरकार की ओर से अवश्य ही कुछ चौंकाने वाले फैसले सामने आएंगे।

’सतप्रकाश सनोठिया, रोहिणी, नई दिल्ली

पाक का फर्जीवाड़ा

कश्मीर में धारा 370 हटाने से पाकिस्तान की बौखलाहट लगातार बढ़ती जा रही है। हर जगह मुंह की खाने के बाद वह कश्मीर में तनाव पैदा करने वाले फर्जी ‘ट्वीट’ और वीडियो ‘वायरल’ कर रहा है। इनके जरिए वह खुद को मुसलमानों का मसीहा घोषित करने की कोशिश कर रहा है। लेकिन एक समझदार भारत, तकनीक संपन्न और आधुनिक भारत में उसकी इस चाल का विफल होनी लाजमी है क्योंकि धारा 370 हटाना भारत का आंतरिक मामला है जो कि पूरे विश्व के संज्ञान में है। इसीलिए किसी अन्य मुसलिम देश ने भी इस पर विचार व्यक्त करना उचित नहीं समझा।

अपनी आतंक की फैक्ट्री को बंद होता देख पाकिस्तान की बौखलाहट कितनी भी बढ़े लेकिन उसका यह फर्जीनामा अब चलने वाला नहीं है। पाकिस्तान को कश्मीर की फिक्र करने से पहले अपने यहां अल्पसंख्यकों पर हो रहे अत्याचार रोकने की कोशिश करनी चाहिए। उसे दुष्प्रचार वाले फर्जी ट्वीट और वीडियो वायरल करने से बचना चाहिए वरना यह भी उसी पर भारी पड़ सकता है।

’आकाश कुमार, मेरठ

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 चौपाल : मंदी की आहट
2 चौपाल: धारा के साथ
3 चौपाल: समता का सपना, शोहदों का आतंक और अच्छा कदम