ताज़ा खबर
 

कहां है जन लोकपाल

सवाल है कि दिल्ली का वह जन लोकपाल कहां है जो यदि होता तो स्वयं सारे मामले संभालता और जिसकी माला जप-जप कर आम आदमी पार्टी सत्ता में पहुंची थी?
Author May 15, 2017 05:57 am
कई मुद्दों पर घिरी हुई आम आदमी पार्टी (आप) की दिल्ली सरकार दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के दाखिले में दिल्ली के छात्रों को आरक्षण का शिगूफा छोड़कर खुद मध्यावधि चुनाव के संकेत देती दिख रही

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके मंत्रिमंडलीय साथियों पर उनके ही एक पूर्व मंत्री ने भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए हैं। तमाम शिकायतें व सबूत लेकर कपिल मिश्रा सीबीआई, एंटी-करप्शन ब्यूरो और उप राज्यपाल के पास चक्कर लगा चुके हैं। सवाल है कि दिल्ली का वह जन लोकपाल कहां है जो यदि होता तो स्वयं सारे मामले संभालता और जिसकी माला जप-जप कर आम आदमी पार्टी सत्ता में पहुंची थी? केजरीवाल भ्रष्ट हैं या नहीं, यह तो होने वाली जांचें स्पष्ट करेंगी। पर वे अपने मतदाता के साथ छल करने वाले, वादा-खिलाफी करने वाले नेता हैं, यह साफ हो गया क्योंकि उन्होंने चुनाव प्रचार में ढिंढोरा पीट-पीट कर वचन देने के बावजूद दो साल में भी जन लोकपाल नियुक्त नहीं किया।
’अजय मित्तल, मेरठ
वेतन पर लुटेरे

आजकल लूट और चेन छीनने की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं। लुटेरों के हौसले किस कदर बुलंद हैं इसका अंदाजा इसी बात से हो जाता है कि ये वारदातें पुलिस थानों के आसपास या भीड़भाड़ वाली जगहों पर और दिन दहाड़े होने लगी हैं। गाजियाबाद सहित पूरे राष्ट्रीय राजधावी क्षेत्र में लूट और झपटमारी की वारदातें बहुक बढ़ गई हैं। इनमें से आधे मामलों में तो पीड़ित महिला या पुरुष पुलिस में शिकायत ही नहीं करते। बाकी जो हिम्मत करके पुलिस के पास जाते भी हैं तो न लुटेरे पकड़ में आते हैं और न लूटा हुआ माल वापस मिलता है।

दरअसल, लुटेरों की योजना पुलिस से काफी आगे चल रही है। अब तो ये लुटेरे बाकायदा वेतन पर रखे जाने लगे हैं। उन्हें हथियार और मोटरसाइकिल उपलब्ध कराई जाती है। गिरोह का सरदार उन्हें रोज एक ‘टारगेट’ देता है और बाकायदा उनसे काम के बारे में पूछताछ करता या दिशा-निर्देश देता रहता है। आसानी से और बहुत कम समय में ज्यादा पैसा कमाने की चाह में अनेक युवक अपराध की इस दुनिया में आ जाते हैं। उनका पुराना आपराधिक रिकॉर्ड न होने की वजह से पुलिस भी कुछ नहीं कर पाती और ये बदमाश आसानी से वारदात को अंजाम दे देते हैं।

पुलिस को इस मामले में गंभीरता दिखानी होगी। जिस तरह उत्तर प्रदेश पुलिस ने एंटी रोमियो दस्ते बना कर लड़कियों को छेड़ने वाले मनचलों की धरपकड़ में सफलता हासिल की है, यदि उसी तर्ज पर पुलिस ‘एंटी स्नैचर स्क्वाड’ बनाए और योजना बना कर काम करे तो निश्चित तौर पर लूट की ये घटनाएं बंद हो सकती हैं और बदमाशों पर भी पुलिस का खौफ बनेगा।
’बृजेश श्रीवास्तव, गाजियाबाद

मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने पीएम मोदी से मुलाकात कर राज्य की वर्तमान स्थिति पर की चर्चा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.