रहस्यमय बीमारी

जांच का विषय है कि पक्षियों की ये मौतें किसी अनहोनी की फिर से दस्तक तो नहीं? रूस सरकार को तत्काल इस मामले में कदम उठा कर मौतों की वजह उजागर करनी चाहिए, जिससे भयभीत मानव जाति को राहत मिले।

chaupal
पक्षियों का बीमार होना सिर्फ उनके लिए नहीं, बल्कि दूसरों के लिए भी घातक है।

आजकल बीमारी का नाम सुनते ही रूह कांपने लगती है और आदमी को दिन में तारे दिखाई देने लगते हैं। ऐसे में रूस में रहस्यमय बीमारी से सत हजार पक्षियों के मरने और नए संक्रमण की जद से वैज्ञानिकों ने इनकार नहीं किया है। अब यह बीमारी मनुष्य में कितनी नुकसानदायक है यह जांच का विषय है। मगर इससे चिंता पनपना स्वाभाविक ही है।

रूस के 3 क्रीमिया में अजोव सागर के किनारे अराबात स्पित पर ग्रीब्स, समुद्री कबूतर और गुल के हजारों की तादाद में शव मिलने से वैज्ञानिक चिंता में हैं। अभी दुनिया कोरोना से मुक्त नहीं हो पाई है, ऐसे में पक्षियों का बड़ी संख्या में किसी अज्ञात बीमारी से मरना चिंता पैदा करता है। वैज्ञानिक इस बात से संतुष्ट हैं कि पक्षियों की मौत जहर से नहीं, बल्कि किसी नए संक्रमण की चपेट में आने से हुई है।

जांच का विषय है कि पक्षियों की ये मौतें किसी अनहोनी की फिर से दस्तक तो नहीं? रूस सरकार को तत्काल इस मामले में कदम उठा कर मौतों की वजह उजागर करनी चाहिए, जिससे भयभीत मानव जाति को राहत मिले।
’अमृतलाल मारू ‘रवि’, धार, मप्र

पढें चौपाल समाचार (Chopal News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट