ताज़ा खबर
 

चौपाल: खुदकुशी की घटनाएं

आधुनिकता की भागदौड़, तनाव, आत्मविश्वास की कमी आज लोगों को गलत कदम उठाने के लिए मजबूर कर रहे हैं, जो सरासर गलत है।

suicide, crime, depressionतस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः जनसत्ता)

जब कोई व्यक्ति किसी वजह से आत्महत्या करता है तो वह अपने इस गलत कदम से अपने छोटे-छोटे बच्चों से लेकर अपने खास रिश्तेदारों की भी जिंदगी खराब कर देता है। जिस देश का इतिहास, सभ्यता और संस्कृति मुसीबतों से लडने की प्रेरणा देने वाली रही हों, वहां बढ़ते खुदकुशी के मामले सचमुच गंभीर चिंता का विषय हैं।

आधुनिकता की भागदौड़, तनाव, आत्मविश्वास की कमी आज लोगों को गलत कदम उठाने के लिए मजबूर कर रहे हैं, जो सरासर गलत है। चिंताजनक तो यह है कि खुदकुशी के मामलों मे नौजवानों का आंकडा तेजी से बढ़ रहा है। भारत में जिस तेजी से खुदकुशी के मामले बढ़ रहे हैं, उससे तो हम उन देशों में शामिल हो गए हैं जहां चीन के बाद सर्वाधिक खुदकुशी की घटनाएं होती हैं।

किसी भी परेशानी या समस्या का हल मौत को गले लगाना तो नहीं होता। हर परेशानी का कोई न कोई हल जरूर निकलता है, बस परेशानी से निपटने के लिए इंसान को दिल, दिमाग और हौसले से काम लेना चाहिए। अगर हम किसी को हौंसला देते हों तो उसमें सकारात्मकता आती है।
’राजेश कुमार चौहान, जलंधर

Next Stories
1 चौपाल: ईंधन पर कर घटे
2 चौपाल: क्रूरता की हद
3 शर्मनाक घटना
यह पढ़ा क्या?
X