ताज़ा खबर
 

बदहाली का अर्थ

केंद्र और राज्य सरकार द्वारा लगाए गए अनियोजित पूर्णबंदी ने देश की अर्थव्यवस्था को ‘अनर्थ व्यवस्था’ में तब्दील करने के साथ ही देश की रीढ़ की हड्डी कहे जाने वाले मध्यम वर्ग को आर्थिक बदहाली के मुहाने पर लाने का काम किया है।

यूपी सरकार ने उन जिलों में लॉकडाउन में ढील देने का फैसला किया है जहां एक्टिव केस 600 से कम हैं। (फाइल फोटो)

भारत की गिरती हुई अर्थव्यवस्था के पीछे कारण कोरोना काल के दौरान की गई पूर्णबंदी है। अर्थव्यवस्था आज छियालीस साल के न्यूनतम स्तर पर है। इसकी मुख्य वजह कोरोना होने के साथ इसके कई अन्य कारण भी हैं। अर्थव्यवस्था मजबूत करने के लिए सरकार पूरी तरह बैंकों पर ही निर्भर हो गई। इसके अलावा, निजीकरण पर ज्यादा भरोसा किया जा रहा है, जो आगे जाकर अर्थव्यवस्था के लिए मुसीबत बन सकता है।

आज बेरोजगारी चरम पर है और देश के युवा नौकरी के लिए दर-दर भटक रहे हैं। सभी क्षेत्रों में निजीकरण बढ़ रहा है। केंद्र और राज्य सरकार द्वारा लगाए गए अनियोजित पूर्णबंदी ने देश की अर्थव्यवस्था को ‘अनर्थ व्यवस्था’ में तब्दील करने के साथ ही देश की रीढ़ की हड्डी कहे जाने वाले मध्यम वर्ग को आर्थिक बदहाली के मुहाने पर लाने का काम किया है। अर्थव्यवस्था की बदहाली के लिए पूर्णबंदी और सरकार की नीति दोनों जिम्मेदार हैं। आज देश में किसानों, मजदूरों, व्यापारी, बेरोजगारों की बदइंतजामी, कुप्रबंध, अराजकता की समस्या छाई हुई है। अर्थव्यवस्था ऐतिहासिक बदहाली और बेरोजगारी अपने आंसू टपका रही है।
-रघुराज गुर्जर, धौलपुर, राजस्थान

Next Stories
1 जलवायु का जीवन
2 चारदिवारी का संक्रमण
3 राहत के मंच
ये पढ़ा क्या?
X