ताज़ा खबर
 

धर्म के नाम पर

कुरान और शरीयत का सहारा लेकर पुरुष अब तक मुसलिम महिलाओं को दोयम दर्जे पर रखते आ रहे हैं।
Author December 13, 2016 03:31 am
सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अगर कोई पति एक बार में तीन तलाक बोलता है, तो अब विवाह समाप्त नहीं होगा। (Photo Source: Twitter)

कुरान और शरीयत का सहारा लेकर पुरुष अब तक मुसलिम महिलाओं को दोयम दर्जे पर रखते आ रहे हैं। लेकिन तीन तलाक को चुनौती देते हुए मुसलिम महिलाएं अब खुलकर सामने आ रही है। शायरा बानो और आफरीन ने इस कानून के खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर की, जिस पर हाईकोर्ट ने कहा कि तीन तलाक महिलाओं से क्रूरता है, इससे न्यायिक अंतरात्मा परेशान है और कोई भी कानून संविधान से बड़ा नहीं हो सकता है।

हाईकोर्ट का यह फैसला मुसलिम महिलाओं में एक नई उम्मीद की किरण को जगाती है। हालांकि हाईकोर्ट के इस फैसला अंतिम नहीं है और सुप्रीम कोर्ट का फैसला अंतिम माना जाएगा। लेकिन आॅल इंडिया मुसलिम वूमेन पर्सनल लॉ बोर्ड ने हाईकोर्ट की टिप्पणी की सराहना की है। धर्म के नाम पर डरा कर हमेशा महिलाओं को ही पीछे धकेला जाता है, चाहे वह तलाक से जुड़ा हुआ हो या जियारत से। अब हर धर्म के ठेकेदारों को समझना होगा की महिलाओं का शोषण धर्म के नाम पर बंद हो।
’विनीता मंडल, इलाहाबाद

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.