ताज़ा खबर
 

राजनीति से दूर

हिंसा की जड़ कहां है और इस हिंसा का जिम्मेदार कौन है, यह पता लगाने के लिए कानून को स्वतंत्र और निष्पक्ष ढंग से अपना काम करने देना चाहिए।

Author January 8, 2018 2:32 AM
मुंबई: ठाणे में इस्टर्न एक्सप्रेस वे पर 3 जनवरी को भीमा कोरेगांव हिंसा के खिलाफ प्रदर्शन करते दलित समुदाय के लोग (फोटो-पीटीआई)

भीमा-कोरेगांव युद्ध के दो सौ साल पूरे होने पर पुणे में भड़की जातीय हिंसा को शांत करने के लिए एक तरफ राज्य सरकार स्थिति पर नियंत्रण की कोशिशों में लगी हुई है, तो दूसरी ओर राजनीतिक दलों ने इस घटना को भी सियासती मुद्दा बना लिया है। यह दुर्भाग्य पूर्ण है, इस संवेदनशील मसले पर आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति नहीं की जानी चाहिए। अगर राजनीतिक दल वास्तव में दलितों के मान-सम्मान की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं तो फिर दलितों के प्रति मानसिकता में परिवर्तन लाने का काम सबसे पहले उन्हें अपने भीतर से शुरू करना चाहिए।

हिंसा की जड़ कहां है और इस हिंसा का जिम्मेदार कौन है, यह पता लगाने के लिए कानून को स्वतंत्र और निष्पक्ष ढंग से अपना काम करने देना चाहिए। अच्छी बात है कि महाराष्ट्र सरकार ने हिंसा के पीछे छिपे सच को सामने लाने के लिए न्यायिक जांच के आदेश दे दिए हैं। लेकिन राजनीतिक दलों को इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि वोट बैंक की सस्ती सियासत कहीं सामाजिक ताने-बाने को भंग न कर दे। साथ ही जातीय हिंसा की यह आग अन्य इलाकों तक न फैले, इस पर ध्यान देना सर्वाधिक जरूरी है।

आज दलित समाज अपने अधिकारों के प्रति सचेत और जागरूक हो रहा है। दलित अब अपने बलबूते सामाजिक स्वतंत्रता हासिल करने के लिए संघर्षरत भी हैं। लेकिन सामाजिक समानता तथा स्वतंत्रता की महत्त्वपूर्ण लड़ाई जीतने के लिए समाज के हर तबके को सहयोग देना होगा। दलितों की अस्मिता की लड़ाई को राजनीतिक भाषणों से ऊपर उठ कर समाज के पीड़ित वर्ग के वास्तविक हितों की लड़ाई बनाना जरूरी है, क्योंकि यह मानवीय अधिकार की लड़ाई है। आज समूचे भारतीय समाज को सामंतवादी जातिगत पूर्वग्रहों से पूरी तरह मुक्त करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ने की जरूरत है। इसके लिए सामाजिक संगठनों को भी आगे आकर पहल करनी चाहिए। साथ ही सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि वह जाति या धर्म के नाम पर किसी भी तरह के टकराव की स्थितियां न पैदा होने दे तथा ऐसे कार्यक्रमों, नीतियों और योजनाओं पर लगातार ध्यान दे जिनसे समाज के अलग-अलग वर्गों के बीच जाति की जड़ता टूटे तथा सामाजिक समरसता और सद््भाव का माहौल बन सके।
’कैलाश मांजू बिश्नोई, जोधपुर
नापाक गठजोड़
ड्रैगन का भारतीय सीमा के भीतर घुसपैठ कर गर्जन-तर्जन करना और अरुणाचल प्रदेश को लेकर विवादास्पद व गैर-जिम्मेदाराना बयान देना उसकी कुटिलता को साफ जाहिर करता है। वह भारत के अभिन्न अंग अरुणाचल प्रदेश का वजूद ही स्वीकार नहीं करता बल्कि इसे दक्षिण तिब्बत का हिस्सा बताता है। भारत के किसी नामचीन नेता के इस राज्य में दौरा करने से चीन बौखला जाता है। सवाल है कि डोकलाम विवाद सुलझने के चंद महीनों बाद आखिर ड्रैगन फिर क्यों सीमा पर विवाद पैदा करना चाहता है?

सियासी विश्लेषकों की मानें तो ड्रैगन को भारत-अमेरिका के बीच बेहतर हो रहे संबंध रास नहीं आ रहे। अमेरिका के आतंकपरस्त देश पर नजरें टेढ़ी करने से भी वह खासा विचलित है। लिहाजा, चीन पाक के साथ गलबहियां करके फिर से सीमा पर तनाव बढ़ाने के लिए आमादा है। चीन-पाक का यह नापाक गठजोड़ भारत के लिए अच्छा संकेत नहीं है। हमें पड़ोसी मुल्क के खिलाफ विश्व समुदाय का समर्थन हासिल करना होगा। आतंक की जड़ पर चोट करनी होगी। चीन के बढ़ते मंसूबों को रोकना ही होगा।
’नीरज मानिकटाहला, यमुनानगर, हरियाणा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App