ताज़ा खबर
 

सोने पर सख्ती

आमतौर पर सोना काला धन रखने का एक टिकाऊ सुरक्षा-कवच माना जाता है।
Author December 15, 2016 00:41 am
आमतौर पर सोना काला धन रखने का एक टिकाऊ सुरक्षा-कवच माना जाता है।

आमतौर पर सोना काला धन रखने का एक टिकाऊ सुरक्षा-कवच माना जाता है। इसलिए उच्च आयवर्गीय लोग इस रास्ते का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। इससे सरकार वास्तविक करदाता की पहचान नहीं कर पाती है। नतीजतन, इसका असर हमारे जीडीपी में भी प्रतिबिंबित होता है। इस लिहाज से सोने पर कड़ा रुख अपनाना लाजिमी प्रतीत होता है। लेकिन इसके कुछ व्यावहारिक पक्ष भी हैं जो सख्त कदम उठाने से पहले गहराई से विचार करने को मजबूर करते हैं। मसलन, सोने की कुल खरीदारी में आधे से ज्यादा की हिस्सेदारी ग्रामीण क्षेत्रों की है। ये लोग वित्तीय संकट के समय इस पूंजी का उपयोग करते हैं। यानी उनके लिए सोना ‘होमबैंक’ का काम करता है। इसके अलावा उनमे सोने के प्रति परंपरागत लगाव भी है।

मेरी राय में सरकार को इस पर प्रत्यक्ष रूप से सख्ती अपनाने के बजाय इन दो स्तरों पर काम करना चाहिए। पहले स्तर पर सरकार को सभी लेनदेन में डिजिटल तकनीक का सहारा लेकर सोने की तस्करी और अवैध खरीद-बिक्री रोकने पर ध्यान देना चाहिए। दूसरे स्तर पर सरकार को ग्रामीण क्षेत्रों में मांग बढ़ानी चाहिए, जिससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था मजबूत होगी और लोग आर्थिक रूप से मजबूत होंगे। परिणामस्वरूप लोगों का सोने के प्रति आकर्षण में स्वत: धीरे-धीरे कमी आनी शुरू हो जाएगी। इस तरह सरकार अपने मकसद में कामयाब हो सकती है।
’नीतीश कुमार ‘निराला’, बेगूसराय, बिहार

नोटंबदी के बाद वृंदावन के बांके बिहारी मंदिर में इस तरह की जाती है पैसों की गिनती

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.