ताज़ा खबर
 

चौपाल: चुनावी छल, बड़ी उपलब्धि, नापाक मंसूबे

पाकिस्तान से फिर बड़ी तादाद में दो हजार के नकली नोट हिंदुस्तान में दाखिल होने का मामला सामने आया है।

Author Published on: February 15, 2017 5:06 AM
100, 100 rs100 के नोटों की तस्वीर।

चुनावी छल

गरीबों के लिए अपने देश में चुनाव त्योहार की तरह कुछ दिन के लिए आते हैं और खाने-पीने का इंतजाम कर जाते हैं! इस तरह भूख से उनकी जान तो बच जाती है, पर मौत होती है लोकतंत्र की! लोग लोभ में आकर पिछले सालों की भूख को बस कुछ मिनट के बदले भूल जाते हैं! यहीं से शुरुआत होती है भ्रष्टाचार की। किसे गलत ठहराएं, पैसे खिलाने वालों को या खाने वालों को? खिलाने वाला वर्षों की ‘परंपरा’ निभा रहा है और खाने वाला कुछ दिन भूख से निजात का सुख ले रहा है! कौन किसे छल रहा है?
स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने की जिम्मेवारी चुनाव आयोग की है। लेकिन आज अपनी जिम्मेदारी निभा कौन रहा है? जिम्मेदारी की परवाह न देश के ‘जिम्मेदार’ नेताओं को है, न जनता को, न राजनीतिक दलों को और न ही चुनाव आयोग को। आखिर क्या होगा हमारे लोकतंत्र का?

’भारत तिवारी, कोरापुट, ओडिशा
बड़ी उपलब्धि
भारत ने पाकिस्तान को नौ विकेट से हरा कर दृष्टिबाधित टी-ट्वेंटी विश्वकप जीत लिया है। पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए पूरे बीस ओवर में आठ विकेट के नुकसान पर 197 रन बनाए। पाकिस्तान की ओर से बदर मुनीर ने सर्वाधिक 57 रन की पारी खेली। भारत ने 17.4 ओवर में महज एक विकेट के नुकसान पर दो सौ रन बनाकर लक्ष्य हासिल कर लिया। भारत की इस जीत के हीरो सलामी बल्लेबाज प्रकाश जयरमैया रहे जिन्होंने नाबाद 99 रनों की पारी खेली। पाकिस्तान को हराकर भारत ने मुकाबले में मिली पाकिस्तान से एक हार का बदला भी ले लिया।
गौरतलब है कि साल 2012 के पहले दृष्टिबाधित टी-ट्वेंटी विश्वकप में भी भारत ने पाकिस्तान को ही हरा कर विश्वकप अपने नाम किया था। इस जीत ने निश्चित ही भारत का सिर गर्व से ऊंचा किया है।
’नितीश कुमार, आईआईएमसी, दिल्ली
नापाक मंसूबे
पाकिस्तान से फिर बड़ी तादाद में दो हजार के नकली नोट हिंदुस्तान में दाखिल होने का मामला सामने आया है। देश की अर्थव्यवस्था की सेहत बिगाड़ने में नकली नोट भी कारण रहे हैं। असली नोटों के सत्रह पहचान चिह्नों में से ग्यारह चिह्न नकली नोटों में पाए जाने के कारण इन्हें पहचानना मुश्किल है। नकली नोटों की समस्या से निपटने के लिए देश ने नोटबंदी के शुरुआती दिनों में कई कठिनाइयों का सामना किया है। वह स्थिति पूरी तरह सामान्य होने में कुछ समय लगने वाला है। इसी बीच नकली नोटों का बड़ी मात्रा में पाकिस्तान से आना चिंतित और चकित करने वाला है।
यह तो तय था पाकिस्तान भारत में नकली नोट भेजने की कोशिश नापाक कोशिश करेगा और उसकी हर कोशिश को नाकाम करने के लिए खुफिया एजेंसियों और पुलिस को कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी। जरा-सी लापरवाही दुश्मन को अपने गलत मंसूबों को अंजाम देने का मौका बन सकती है। चीन हिंदुस्तान के विरुद्ध काम करने के लिए पाकिस्तान को हर क्षेत्र में विशेष सहायता करता रहता है। हमें इन दोनों से सावधान रहते हुए इनकी हर चाल को ध्वस्त करना होगा।
’जयेश राणे, मुंबई, महाराष्ट्र

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गरिमा के विरुद्ध
2 चौपाल- आतंकी जड़ें, बाजार का प्रेम, उनके बोल
3 चुनावी राग