ताज़ा खबर
 

चौपाल: किसकी आजादी

पिछले हफ्ते दिल्ली के बुराड़ी इलाके में सिरफिरे आशिक ने सरेराह एक लड़की को चाकू से गोद कर मार डाला।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

देश की राजधानी में अपराध बढ़ता जा रहा है। पिछले हफ्ते दिल्ली के बुराड़ी इलाके में सिरफिरे आशिक ने सरेराह एक लड़की को चाकू से गोद कर मार डाला। इस घटना ने मानवता पर प्रश्नचिह्न लगा दिया है। विचित्र है कि वहां आते-जाते लोगों ने लड़की को बचाने की कोशिश नहीं की। इससे अपराधियों के लिए खुली छूट का माहौल बन रहा है। अजीब बात है कि आज इंसान रिश्तों की मर्यादा भूल कर गलत राह अपना रहा है। प्रेम के नाम पर युवा स्त्रियों को मार दे रहे हैं। स्वार्थ, लोभ, लालच के लिए भाईचारा, सहयोग और प्रेम सब खत्म हो रहा है। आज ऐसे ही अपराधी, गुंडे-मवालियों का बोलबाला है।
मनुष्य के नैतिक मूल्यों का पतन होता जा रहा है, जिसकी दुर्दशा समाज के मासूम वर्गों को झेलनी पड़ रही है। हमें सार्वजनिक डर बनाए रखना होगा, वरना भीड़ भरे चौराहों पर भी हमले का डर रहेगा। हमारा सामाजिक ताना-बाना बिखर जाएगा। समाज महिलाओं के बजाय उन पर हमला करने वालों की आजादी का माहौल बना रहा है।
’विजयता पाण्डेय, भोपाल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 चौपाल: मुश्किल वक्त
2 चौपालः समय का साहित्य
3 चौपाल: इलाज का मर्ज
ये पढ़ा क्या?
X