ताज़ा खबर
 

स्थायी उपाय

नकद निकासी पर कर लगाना समस्या का स्थायी समाधान नहीं कहा जा सकता
Author January 31, 2017 04:40 am
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

नकद निकासी पर कर लगाना समस्या का स्थायी समाधान नहीं कहा जा सकता और न इससे सरकार की नकद रहित लेन-देन को प्रोत्साहन देने की मंशा फलीभूत हो सकती है। यह ठीक उसी तरह है जैसे किसी पेड़ को जड़ से उखाड़ने के बजाय सिर्फ उसकी शाखाओं को काटा जाए। हमें समस्या के समाधान को खुद एक समस्या बना देने से बचना होगा। इसके लिए सुधारवादी कदम के तहत अंशकालिक उपाय करने के बजाय स्थायी उपाय और स्वत: डिजिटल भुगतान के लिए प्रेरित करने का ढांचा विकसित करना चाहिए ताकि नकद लेन-देन की तुलना में डिजिटल लेन-देन सस्ता हो। व्यवस्था ऐसी हो कि सरकार के दबाव के बजाय लोग खुद बदलने को प्रेरित हों।

इसके उपाय के रूप में सरकार को ‘तकनीकी समावेशन’ की तरफ ध्यान देना चाहिए। मसलन, हमारे देश में एक लाख पचपन हजार डाक घर हैं जिनमें से एक लाख 30 हजार ग्रामीण क्षेत्रों में हैं। सबसे पहले हमें ग्रामीण डाक तंत्र का आधुनिकीकरण कर देश के छह लाख गांवों से जुड़ने की योजना होनी चाहिए। साथ ही सूचना का तेजी से प्रवाह कर आम जन को बदलते भारत की तस्वीर और तकनीक से अवगत कराना चाहिए क्योंकि किसी भी देश की भावी योजनाओं की सफलता उस देश के लोगों की सरल आदत में छिपी होती है और यह आदत देश की सामाजिक वयवस्था और संरचना को सुदृढ़ कर तैयार की जा सकती है। इसलिए हमें समस्याओं की जड़ों पर प्रहार करना होगा।
’नीतीश कुमार ‘निराला’, बेगूसराय, बिहार

पुणे: इंफोसिस ऑफिस के अंदर महिला इंजीनियर की गला घोंटकर हत्या, सिक्योरिटी गार्ड गिरफ्तार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.