ताज़ा खबर
 

बदलाव जरूरी

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव में जाति और धर्म के नाम पर वोट मांगने को गैरकानूनी घोषित करके अच्छा काम किया है।

सेना के जवान का यह वीडियो इंटरनेट पर वायरल हुआ है।

बदलाव जरूरी

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव में जाति और धर्म के नाम पर वोट मांगने को गैरकानूनी घोषित करके अच्छा काम किया है। सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद चुनाव प्रक्रिया को सही ढंग से संचालित करने के लिए चुनाव आयोग को भी सख्ती बरतनी होगी। चुनाव आयोग को कुछ और सुझावों पर विचार करना चाहिए। जैसे लोकसभा का चुनाव चार साल में होना चाहिए। कुछ संस्थाओं में मनोनयन प्रणाली भी अपनाई जानी चाहिए।

’एमसी पवार, नई दिल्ली
तारीफ का तकाजा

पिछले दिनों पटना में एक समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, दोनों मंच पर मौजूद थे। वहां प्रधानमंत्री ने शराबबंदी के लिए नीतीश कुमार की खुलकर तारीफ की। पर वे यहीं तक क्यों रुके हैं। जब प्रधानमंत्री नोटबंदी जैसा सख्त फैसला ले सकते हैं, तो शराबंदी पूरे देश में लागू क्यों नहीं कर सकते, जिसे वे अच्छा कदम मानते हैं? हो सकता है, यह राज्यों का मामला होने के कारण सीधे उनके अधिकार क्षेत्र में न हो। पर आज पूरी भाजपा उनके पीछे है। वे चाहें तो भाजपा-शासित सभी राज्यों में शराबबंदी लागू की जा सकती है। मोदी इसकी पहल क्यों नहीं करते!
’सुरेश मिश्र, इंदिरान
गर, लखनऊ

जवानों का दर्द

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने जवानों को चेतावनी देते हुए कहा कि सोशल मीडिया पर शिकायत करना भारी पड़ सकता है। लेकिन ध्यान देने की बात यह भी कि सेना के नियमों को तोड़ना जितना गलत है, उतना ही उन्हें तोड़ने के लिए मजबूर करने वाले भी दोषी हैं। अपना दर्द बताने के लिए जवान को सोशल मीडिया का सहारा लेने की जरूरत क्यों पड़ी आखिर? इसका अर्थ यही है कि उसका दर्द समझा नहीं जा रहा है। उसका दर्द पहले ही समझा गया होता तो सोशल मीडिया का सहारा लेने की जरूरत ही नहीं पड़ती। दर्द के कारण जवानों की घुटन बढ़ी है तो यह न तो उनकी सेहत के लिए सही है न सुरक्षा बलों के अंदरूनी वातावरण के लिए। यह वातावरण जल्द ही सामान्य होना चाहिए। दुश्मन से निपटने के लिए सेना तुरंत कार्य योजना बनाती है, उसी तरह जवानों को परेशान करने वाली समस्याओं पर हल भी फौरी तौर पर ढूंढ़ना जरूरी हैं। अधिकारी हों या जवान, सभी देश की सेवा करने के लिए ही सेना में होते हैं। सभी की देखभाल भी ठीक से होनी चाहिए।
’जयेश राणे, मुंबई, महाराष्ट्र।

Next Stories
1 मीडिया का रुख
2 टिप्पणी आपत्तिजनक
3 डिजिटल भुगतान
ये पढ़ा क्या?
X