ताज़ा खबर
 

टिप्पणी आपत्तिजनक

हरियाणा के वरिष्ठ मंत्री अनिल विज का राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को लेकर दिया गया बयान आहत करने वाला है।

Author January 17, 2017 1:52 AM
हरियाणा के मंत्री अनिल विज ने पद्मावति को लेकर विवादित बयान दिया है।

हरियाणा के वरिष्ठ मंत्री अनिल विज का राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को लेकर दिया गया बयान आहत करने वाला है। मंत्री ने अपने बयान में कहा था कि गांधी की जगह मोदीजी की तस्वीर लगाने में कोई दिक्कत नहीं है। उन्होंने यहां तक बड़बोलापन दिखाया कि धीरे-धीरे नोटों पर से भी गांधीजी की तस्वीर खत्म होनी चाहिए। वरिष्ठ मंत्री होने के नाते श्री विज को यह समझना चाहिए कि क्या बोलना है और क्या नहीं। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी किसी ब्रांड को फायदा या नुकसान पहुंचाने का जरिया नहीं हैं, बल्कि वे पूरे भारत की आस्था के प्रतीक हैं। उनके लिए यह कहना कि कहना कि खादी को गांधीजी की छवि से कोई फायदा नहीं हुआ, बहुत ही निराशाजनक है।

सोचनेवाली बात है कि क्या वह मोदी और महात्मा गांधी को एक ही पलड़े पर रखना चाहते हैं? असल में, यह कभी संभव नहीं होगा। महात्मा गांधी के नाम का प्रयोग खादी या नोटों पर उनके सम्मान में किया जाता है, न कि किसी भी तरह के फायदे के मद्देनजर। उनके चित्र का प्रयोग उनके सम्मान में किया जाता है, किसी ब्रांड को हिट बनाने के लिए नहीं। मंत्रीजी को यह समझना चाहिए कि देश के राष्ट्रपिता के लिए इस तरह के बयान देशवासियों की भावना से खिलवाड़ करनेवाले हैं। गांधीजी हमारे देश की गरिमा हैं। उनके खिलाफ इस तरह के बयान स्वीकार नहीं किए जा सकते।

’शिवा कुमारी, भारतीय विद्या भवन, नई दिल्ली।

खादी ग्राम उद्योग के कैलेंडर में महात्मा गांधी की जगह पीएम मोदी की तस्वीर; केजरीवाल और तुषार गांधी ने किया विरोध

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App