ताज़ा खबर
 

यह नस्लभेद

पिछले दिनों दिल्ली गोल्फ क्लब में मेघालय की एक महिला तैयलिन लिंगदोह को खाना खाते समय क्लब के भोजन कक्ष से महज इसलिए निकाल दिया गया कि उसने खासी समुदाय का परंपरागत परिधान ‘जैनसेम’ पहन रखा था।

तैयलिन लिंगदोह ने जैनसेम पहन रखा था जो परंपरागत तौर पर खासी समुदाय की महिलाएं पहनती हैं।

यह नस्लभेद
भारत विविधताओं का देश है और यही पहचान हमें दुनिया के दूसरे देशों से अलग करती है। लेकिन विडंबना है कि कुछ लोग भारत की इस गौरवशाली छवि को धूमिल करने का कुत्सित प्रयास कर रहे हैं और हमारी सरकार निष्क्रिय रह कर ऐसे लोगों का हौसला बढ़ा रही है! पिछले दिनों दिल्ली गोल्फ क्लब में मेघालय की एक महिला तैयलिन लिंगदोह को खाना खाते समय क्लब के भोजन कक्ष से महज इसलिए निकाल दिया गया कि उसने खासी समुदाय का परंपरागत परिधान ‘जैनसेम’ पहन रखा था। जिस परिधान को पहन कर वे विदेश भी गर्इं और कभी अपमानित नहीं होना पड़ा वही परिधान अब अपने ही देश में आपत्तिजनक कैसे हो गया है!

एक समुदाय विशेष के परंपरागत परिधान को घरेलू सहायिका का परिधान बता कर तैयलिन को क्लब से बाहर कर देना न सिर्फ महिला का अपमान और नस्लीय भेदभाव है बल्कि देश की साझीसंस्कृति पर हमला भी है। कितना दुर्भाग्यपूर्ण है कि कहीं यात्रियों से भरी ट्रेन में कुर्ता-पाजामा और टोपी पहने यात्रियों को देशद्रोही कहा जाता है, और भीड़ पीट-पीट कर ऐसे किसी यात्री की हत्या भी कर देती है। इस प्रकार की संकीर्ण मानसिकता और अपनी मनमाफिक विचारधारा को जबरन थोपने की परंपरा देश के लिए चिंताजनक, दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय है! आखिर कब तक हम सब देश की पहचान को धूमिल होते देखते रहेंगे!
’मंजर आलम, रामपुर डेहरु, मधेपुरा
बाल श्रम निषेध
हर साल बारह जून को विश्व बाल श्रम निषेध दिवस मनाया जाता है। कहने को भारत में बाल श्रम गैरकानूनी है, यानी चौदह वर्ष से कम आयु के बच्चों से मजदूरी कराना कानूनन अपराध है। लेकिन लगभग हर दुकान पर ‘छोटू’ शब्द जरूर सुनाई दे जाता है। ऐसा नहीं है कि वे बच्चे ख्वाब नहीं देखते, फर्क बस इतना है कि उन नन्हीं आंखोें के ख्वाब बाल मजदूरी के कारण दब जाते हैं। बाल श्रम के विरोध में सिर्फ एक दिन मनाने से कुछ नहीं होगा, जरूरत है इसके खिलाफ हर किसी को जागरूक करने की। बाल मजदूरी तब तक एक बड़ी समस्या बनी रहेगी, जब तक बाल मजदूरी कराने वाले और इसे देखकर भी अनदेखी करने वाले जागरूक नहीं होंगे।
’शालिनी नेगी, जैतपुर, नई दिल्ली

Next Stories
1 सफलता और सरोक
2 भीड़ का इंसाफ
3 विक्षिप्तों की सुध
यह पढ़ा क्या?
X