ताज़ा खबर
 

चौपाल : दोहरी मार

केंद्र सरकार सेवा कर के नाम पर जनता को लूट रही है। चौदह प्रतिशत सेवा कर पहले ही बहुत ज्यादा था पर उसे अब आधा-आधा प्रतिशत दो बार किसी न किसी नाम से बढ़ा कर पंद्रह प्रतिशत कर दिया गया है।

Author नई दिल्ली | June 2, 2016 12:40 AM
भाजपा कार्यकर्ता होर्डिंग्स ले जाते हुए।

केंद्र सरकार सेवा कर के नाम पर जनता को लूट रही है। चौदह प्रतिशत सेवा कर पहले ही बहुत ज्यादा था पर उसे अब आधा-आधा प्रतिशत दो बार किसी न किसी नाम से बढ़ा कर पंद्रह प्रतिशत कर दिया गया है। यह जनता के साथ धोखा है। दिन-पर-दिन तमाम सेवाएं इस कर के दायरे में आती जा रही हैं। गौरतलब है कि सेवा कर की दोहरी मार सबसे ज्यादा आयकरदाताओं पर ही पड़ती है क्योंकि वही सेवाओं का उपयोग ज्यादा करते हैं। यदि सरकार को अपनी आय बढ़ानी ही है तो क्यों नहीं लाती अधिक से अधिक लोगों को आयकर वसूली के दायरे में? कहां जा रहा है कोयला, दूरसंचार, तेल और गैस का लाभ? क्यों की जा रही है विज्ञापनों पर अंधाधुंध पैसे की बरबादी? क्या जनता मेहनत करके धन इसलिए कमाती है कि उसका एक बड़ा भाग बरबादी के लिए सरकार को दे?

(यश वीर आर्य, दिल्ली)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X