ताज़ा खबर
 

चौपाल : किस ओर

अपने थोड़े से ऐश और आराम के लिए दूसरों पर समस्या थोपना कहां न्यायोचित है? नैतिकता तो जैसे समाज से गायब ही होती जा रही है।

Author नई दिल्ली | June 1, 2016 6:03 AM
आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में गरमी की वजह से एक हजार से ज्यादा लोगों की मृत्यु हो गई। एक तरफ मौसम की, तो दूसरी तरफ सियासत की गरमी लोगों को तपा रही है।

जेब में पैसा आने के बाद इंसान गर्मी से निपटने के लिए घर के आसपास पेड़ लगाने के बजाय घर में ‘एसी’ लगवाता है। भविष्य में गर्मी के प्रकोप से बचने के लिए सब कूलर और एसी ले आएंगे लेकिन पेड़ लगाने की मुसीबत कोई नहीं उठाना चाहेगा।

अपने थोड़े से ऐश और आराम के लिए दूसरों पर समस्या थोपना कहां न्यायोचित है? नैतिकता तो जैसे समाज से गायब ही होती जा रही है। कहीं कोई युद्ध नहीं चल रहा है पर संघर्ष इतना बढ़ गया है कि समाज में जीने के लिए भी स्वार्थी बनना पड़ रहा है! आखिर किस ओर जा रहे हैं हम?

राज सिंह रेपसवाल, जयपुर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App