ताज़ा खबर
 

अशांति के मंच

दुनिया में अपना आतंक खड़ा करने के लिए आतंकवादी आक्रमण, डराना-धमकाना आदि के माध्यम से हमेशा सक्रिय रहते हैं। इसके लिए वे जो माध्यम संभव हो, उसका उपयोग करते है। इसी तरह का एक माध्यम ‘सोशल मीडिया’ है। आज के जमाने में यह जनसंपर्क का एक बड़ा माध्यम हो चुका है। लेकिन उसका इस्तेमाल अच्छी […]

दुनिया में अपना आतंक खड़ा करने के लिए आतंकवादी आक्रमण, डराना-धमकाना आदि के माध्यम से हमेशा सक्रिय रहते हैं। इसके लिए वे जो माध्यम संभव हो, उसका उपयोग करते है। इसी तरह का एक माध्यम ‘सोशल मीडिया’ है। आज के जमाने में यह जनसंपर्क का एक बड़ा माध्यम हो चुका है। लेकिन उसका इस्तेमाल अच्छी चीजों से अधिक बुरी घटनाओं को अंजाम देने के लिए किया जा रहा है। इसी को ध्यान में रखते हुए एक आतंकी चेहरे हाफिज सईद का ट्विटर खाता ट्विटर ने फिर से बंद कर दिया है। आतंकवादी घटनाओं में बढ़ती तकनीकी भूमिका के मद्देनजर ध्यान में आने के बाद ट्विटर के इस कदम को उचित कहा जाना चाहिए। लेकिन यह इस पर निर्भर करता है कि ट्विटर कब तक अपने इस निर्णय पर टिका रहता है।

सोशल मीडिया के फेसबुक जैसे जो अन्य बड़े मंच हैं, उन्हें भी इसी तरह के कदम उठा कर दंगा या हिंसा भड़काने वाले वक्तव्य देने वालों पर तुरंत रोक लगाना चाहिए। अपने गलत और प्रतिक्रियावादी विचार दुनिया में तेजी से फैलाने के लिए ऐसे लोग हमेशा कोशिश करते रहते हैं। उनका इसके पीछे का मकसद नाकाम करने के लिए सोशल मीडिया के मंच संचालित करने वाली सभी कंपनियों को एक होकर आतंकी गतिविधियों की तकनीकी स्तर पर नाकाबंदी करना चाहिए, क्योंकि ये मंच गलत या मानवता के खिलाफ विचार फैलाने वालों के लिए नहीं है। यह साफ संदेश प्रसारित होना चाहिए।

 

यह किसी से छिपा नहीं है कि समाज में अफरा-तफरी मचाने वाले बयान आजकल तेजी से फैलाए जा रहे हैं। ऐसे उग्र विचारों पर रोक लगाना अनिवार्य है और अब उनकी जड़ पर ही तकनीकी आक्रमण करना जरूरी हो गया है। सामाजिक शांति को भंग करने के लिए देशद्रोहियों को छोटा-सा बहाना भी मिल जाता है, तो वे तुरंत उसे आजमाने लगते हैं। फिर उसी को पकड़ कर दंगे फैलाने की कोशिश की जाती है। इसका अनुभव पुलिस, जनता, मीडिया को है। आग जलाने के लिए एक चिंगारी काफी रहती है। उसी आग को सोशल मीडिया के माध्यम से दुनिया में फैलाने वालों को अगर इस चौखट के बाहर फेंका जाए तो उसमें गलत क्या है?

 

’जयेश राणे, भांडुप, मुंबई

 

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta

 

Next Stories
1 आतंक का दायरा
2 समाज का चेहरा
3 ईमानदारी का मोल
ये पढ़ा क्या?
X