ताज़ा खबर
 

कूटनीतिक विचलन

जनसत्ता 1 अक्तूबर, 2014: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा को गीता भेंट करके अपनी धार्मिक निष्ठा और विश्वास का तो प्रदर्शन किया, लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति को यह भी बता दिया कि वे भारत की अब तक की घोषित धर्म-निरपेक्षता की नीति को नहीं मानते। वैसे तो धर्म-निरपेक्षता का सारी दुनिया में सर्वमान्य अर्थ […]

Author October 1, 2014 12:02 pm

जनसत्ता 1 अक्तूबर, 2014: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा को गीता भेंट करके अपनी धार्मिक निष्ठा और विश्वास का तो प्रदर्शन किया, लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति को यह भी बता दिया कि वे भारत की अब तक की घोषित धर्म-निरपेक्षता की नीति को नहीं मानते।

वैसे तो धर्म-निरपेक्षता का सारी दुनिया में सर्वमान्य अर्थ जीवन को धार्मिक विश्वासों और रूढ़ियों से पूरी तरह मुक्त रखना माना जाता है। राज्य की नीतियों के प्रसंग में धर्म-निरपेक्षता का अर्थ है- सरकार के किसी भी काम में किसी धार्मिक विचार या संस्थान की दखलंदाजी न हो। राज्य चालित होगा राष्ट्र के संविधान और समानता, भाईचारा, जन-कल्याण और मानवाधिकार के मूल्यों के आधार पर, किसी भी प्रकार की रूढ़ियों और अंधविश्वासों के आधार पर नहीं ।

भारत में, आधुनिक जनतंत्र के मूल्यों के प्रति प्रकट निष्ठा के बावजूद यहां के राजनेताओं ने व्यापक जनता के धर्मभीरु और धर्मप्राण चरित्र और समाज में नाना प्रकार के धर्मों और पंथों की जकड़बंदी को देखते हुए धर्म-निरपेक्षता को एक सुविधाजनक नया आयाम दिया- सर्वधर्म समभाव का आयाम। मान लिया गया कि सर्वधर्म समभाव स्वत: राज्य को किसी धर्म विशेष के प्रति झुकाव के दोष से मुक्त रखेगा और उसे जनतांत्रिक संविधान के आधार पर चालित करेगा। लेकिन हमारे प्रधानमंत्री तो धर्म-निरपेक्षता की इन दोनों कसौटियों पर खरे नहीं उतरे।

जैसे सारी दुनिया में ईसाई धर्म के प्रचारकों को सर्वत्र बाइबिल बांटते हुए पाया जाता हैं, लगभग उसी तर्ज पर प्रधानमंत्री ने हिंदू धर्म-ग्रंथ गीता भेंट करके अमेरिका में खुुद को एक हिंदू धर्म-प्रचारक के रूप में पेश किया। शिष्टतावश कोई कहे या न कहे, ओबामा को उनकी यह भेंट अमेरिकी प्रशासन और समाज में उनके कट्टर धार्मिक पूर्वग्रहों के बारे में पहले से ही जिस प्रकार के संदेह छाए हुए हैं, उन संदेहों को और बल पहुंचाएगी। भारत-अमेरिका संबंधों में सुधार और विश्व में हमारे प्रधानमंत्री की स्वीकार्यता की दृष्टि से इसे हम बुरी कूटनीति कहेंगे।

अरुण माहेश्वरी, कोलकाता

 

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App