ताज़ा खबर
 

चौपाल: राजनीति और अपराधी

पुलिस का काम होता है कानून व्यवस्था को लागू कराना, दोषी को सजा और निर्दोषों को बरी कराना। मगर जिस तरह से हमारी राजनीति गंदी होती गई, उसी के साथ प्रशासनिक सेवा के बाकी स्तंभ भी उस गंदगी के छीटें से नहीं बच सके।

कानपुर एनकाउंटर मामले की जांच के दौरान पुलिस की टीम। (फोटो-सोशल मीडिया)

पुलिस का काम होता है कानून व्यवस्था को लागू कराना, दोषी को सजा और निर्दोषों को बरी कराना। मगर जिस तरह से हमारी राजनीति गंदी होती गई, उसी के साथ प्रशासनिक सेवा के बाकी स्तंभ भी उस गंदगी के छीटें से नहीं बच सके।

राजनेताओं द्वारा इस विभाग को अंगुली पर नचाने के कारण ही विकास दुबे ने शुक्रवार शाम कानपुर के पास एक गांव में आठ पुलिस वालों को मौत के घाट उतार दिया। जाहिर है, अपराधियों में ऐसा हौसला बिना राजनीतिक संरक्षण के नहीं आ सकता। विकास पर 2001 में एक नेता की हत्या कर दी थी। लेकिन गवाहों के अभाव में वह बरी हो गया था। यही वह पुलिस है, जो हिरासत में हर साल सैकड़ों हजारों लोगों को मार देती है।

यह वही पुलिस है जिसने तमिलनाडु में मोबाइल फोन की दुकान चलाने वाले पिता-पुत्र को हिरासत में लेकर इसलिए मार डाला क्योंकि उन्होंने मुफ्त में मोबाइल फोन देने से इंकार कर दिया था।

’जंग बहादुर सिंह, गोलपहाड़ी,जमशेदपुर

किसी भी मुद्दे या लेख पर अपनी राय हमें भेजें। हमारा पता है : ए-8, सेक्टर-7, नोएडा 201301, जिला : गौतमबुद्धनगर, उत्तर प्रदेश
आप चाहें तो अपनी बात ईमेल के जरिए भी हम तक पहुंचा सकते हैं। आइडी है : chaupal.jansatta@expressindia.com

Next Stories
1 चौपाल: पुलिस पर दाग
2 चौपालः नुकसान की पटरी
3 चौपालः लाचारी की मार
ये पढ़ा क्या?
X