ताज़ा खबर
 

चौपाल: चीन पर संदेह

डॉक्टर ली वेलियांग की मौत, यूरोपीय देशों को खराब पीपीई किटों की आपूर्ति और अब जाम्बिया जैसे अफ्रीकी देशों को ऐसी ही खराब जांच किटों की आपूर्ति कर चीन यह साबित कर रहा है कि दाल में निश्चित ही कुछ काला है।

COVID-19: चीन में कोरोना वायरस के मामलों ने एक बार फिर रफ्तार पकड़ ली है। (indian express)

दुनियाभर में पूर्णबंदी जारी है और इस बीच चीन ने व्यावसायिक गतिविधियों को शुरू करने के बाद अंतरिक्ष मिशन भी शुरू कर दिए हैं। ‘लॉन्ग मार्च 5 बी’ राकेट का प्रक्षेपण सिद्ध करता है कि चीन महामारी से उबर चुका है और अब फिर से पुरानी रफ्तार से विकास की ओर बढ़ना चाहता है। चीन की छवि वायरस के उदगम से लेकर दुनिया भर में इसके फैलाव और अब मात्र चीन में इसके नियंत्रण तक के सभी पहलुओं में संदेहास्पद रही है।

डॉक्टर ली वेलियांग की मौत, यूरोपीय देशों को खराब पीपीई किटों की आपूर्ति और अब जाम्बिया जैसे अफ्रीकी देशों को ऐसी ही खराब जांच किटों की आपूर्ति कर चीन यह साबित कर रहा है कि दाल में निश्चित ही कुछ काला है। वुहान में मांस बाजार और वायरोलॉजी प्रयोगशाला कई वर्षों से कार्यरत हैं। दोनों का बड़ी मात्रा में एक ही जगह होना सोची समझी साजिश नहीं तो और क्या हो सकती है। स्थिति ऐसी है कि हर बड़ा देश कोरोना से जूझ रहा है, सभी मंदी और बेरोजगारी की कगार पर खड़े हैं और चीन मौका भुनाने में लगा है, व्यापार बढ़ा रहा है और साथ ही अंतरिक्ष मे स्वयं को और मजबूत करने में लगा हुआ है।

’प्रशांत कुमार अहलूवालिया, बिजनौर

किसी भी मुद्दे या लेख पर अपनी राय हमें भेजें। हमारा पता है : ए-8, सेक्टर-7, नोएडा 201301, जिला : गौतमबुद्धनगर, उत्तर प्रदेश, आप चाहें तो अपनी बात ईमेल के जरिए भी हम तक पहुंचा सकते हैं। आइडी है chaupal.jansatta@expressindia.com

Next Stories
1 चौपाल: समाज और सवाल
2 चौपाल: पैकेज की दरकार
3 चौपालः बच्चों का रास्ता
ये पढ़ा क्या?
X