ताज़ा खबर
 

चौपाल: लापरवाही की हद

अमेरिका ऐसे ही विश्व का सबसे महान शक्तिशाली विकसित देश नहीं बना है, उसने जरूर कुछ सही किया होगा। मगर जब संकट की घड़ी आती है तभी किसी इंसान या देश की सही परीक्षा होती है। अगर तीसरी दुनिया के देश इस तरह का आंकड़ा दें तब तो एक बार को समझा जा सकता है, पर अगर अमेरिका जैसे देश में अगर संक्रमित लोगों का आंकड़ा डेढ़ लाख तक पहुंचता है और वहां लोगों को अपनी मूलभूत चीजें लेने के लिए दिक्कत हो रही है और तब भी

Coronavirus Cases Latest News: दुनिया में कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। (file)

अमेरिका ऐसे ही विश्व का सबसे महान शक्तिशाली विकसित देश नहीं बना है, उसने जरूर कुछ सही किया होगा। मगर जब संकट की घड़ी आती है तभी किसी इंसान या देश की सही परीक्षा होती है। अगर तीसरी दुनिया के देश इस तरह का आंकड़ा दें तब तो एक बार को समझा जा सकता है, पर अगर अमेरिका जैसे देश में अगर संक्रमित लोगों का आंकड़ा डेढ़ लाख तक पहुंचता है और वहां लोगों को अपनी मूलभूत चीजें लेने के लिए दिक्कत हो रही है और तब भी अगर वहां के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पूर्णबंदी के पक्ष में नहीं हैं तो यह बात गले से नहीं उतरती है। उन्हें ज्यादा दूर नहीं, बल्कि इटली, स्पेन, फ्रांस जैसे देशों की तरफ देखना चाहिए और जब इस महामारी ने ब्रिटेन जैसे देश के प्रधानमंत्री को अछूता नहीं छोड़ा और अमीर, गरीब सारे लोग इस त्रासदी से लड़ने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, तो देश की आम जनता की सेहत और कुशल-मंगल से ऊपर कुछ नहीं हो सकता है। इसमें कोई दो राय नहीं कि पूरा विश्व इस समय कोरोना और अर्थव्यवस्था की मंदी की दोहरी मार झेल रहा है, पर इस समय प्राथमिकता कोरोना को ही मिलनी चाहिए। एक बार विश्व इससे उबर गया तो अर्थव्यवस्था को भी उबार लिया जाएगा।
’बाल गोविंद, सैक्टर 44, नोएडा

America, the powerful country of the world, helpless in front of the corona virus

इंतजाम की जरूरत
देश की 130 करोड़ की विशाल आबादी के मान में प्रशिक्षित ऐलोपैथिक चिकित्सकों की बहुत बड़ी कमी है, वहीं देश के सभी सरकारी अस्पतालों में अत्याधुनिक उपकरणों की भी भारी कमी है। आज इटली, फ्रांस, स्पेन, अमेरिका जैसे राष्ट्र, जो चिकित्सा के क्षेत्र में विश्व भर में अग्रिम पंक्ति में आते हैं, वे जानलेवा कोरोना विषाणु की चपेट में हैं। हमारे यहां पूरे देश में बंदी लागू करना एक अहम फैसला है। बावजूद सबके प्रधानमंत्री से देश की जनता को बहुत सी अपेक्षाएं हैं, इसके पीछे उनकी दृढ़ इच्छाशक्ति और आत्म विश्वास है। उनसे उम्मीद की जाती है कि वे पूरे देश के हर सरकारी अस्पताल में कोरोना से लड़ने वाले प्रथम योद्धाओं को उच्च क्वालिटी की ‘पर्सनल प्रोटेक्शन किट’ सहित सभी प्रकार के नए से नए उपकरणों की आपूर्ति तत्काल प्रभाव से कराएं।
’अरविंद मिश्र, अवधपुरी, भोपाल

Next Stories
1 चौपाल: पार्टियां भी करें मदद
2 चौपाल: चीन पर अंगुली
3 चौपाल: पुलिस का असली चेहरा
ये पढ़ा क्या?
X