ताज़ा खबर
 

गंदगी और सफाई

लगता है कि प्रधानमंत्री मोदी ने विदेशों में देश की छवि धूमिल करने की कसम खा रखी है। उन्होंने कनाडा में भारत को घोटालों और गंदगी का देश कह दिया जो अफसोसनाक है। वित्तमंत्री ने राज्यसभा में उनका बचाव करते हुए विपक्ष से साठ साल के घोटालों पर चर्चा के लिए तैयार रहने की बात […]

Author May 2, 2015 8:01 AM

लगता है कि प्रधानमंत्री मोदी ने विदेशों में देश की छवि धूमिल करने की कसम खा रखी है। उन्होंने कनाडा में भारत को घोटालों और गंदगी का देश कह दिया जो अफसोसनाक है। वित्तमंत्री ने राज्यसभा में उनका बचाव करते हुए विपक्ष से साठ साल के घोटालों पर चर्चा के लिए तैयार रहने की बात कही। लब्बोलुआब यह कि देश में पहले की सभी सरकारें घोटाले और गंदगी करने वाली थीं, अब मोदी ‘स्किल’ और ‘सफाई वाली’ सरकार के प्रधानमंत्री हैं!

उन्होंने पिछले दस-ग्यारह महीनों में अपनी विदेश यात्राओं पर सरकारी खजाने की कितनी सफाई करवाई वह भी एक इतिहास ही बनेगा। अब एक महीने का वेतन अपने ही कोष में देना क्या है? अगर देश के सभी मंत्री फिजूलखर्ची छोड़ दें तो वह उनके एक महीने क्या, एक साल से अधिक के वेतन के बराबर हो सकता है।

यश वीर आर्य, दिल्ली

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App