चौपाल

आवेश का हासिल

मनुष्य जीवन में आवेश उत्पन होना स्वाभाविक है। मनुष्य में आवेशों की उत्पत्ति का कारण बनने वाले प्रमुख कारक उसकी परिस्थितियां, कर्म, विचार और...

पूर्वाग्रह के रंग

एक ओर रंग का गहरा या सांवला होना अभिशाप माना जाता है, वहीं इस धारणा के जरिए चंद हफ्तों में गोरा बनाने और बेदाग...

महंगाई की मार

देश के कई राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में पेट्रोल की कीमतों ने शतक पार कर लिया है। राजस्थान में डीजल के दाम भी...

लहरों पर सफर

आदि-काल से हमने विभिन्न नायकों को अपना आदर्श माना है। राजनीतिक संदर्भ में भी एक प्रकार से हम सब लहरों के बहाव में बहने...

खतरे में बचपन

बाल मजदूरी के खिलाफ जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से हर साल बारह जून को विश्व बाल श्रम निषेध दिवस मनाया जाता है।

समस्या की जड़

इस साल चार अप्रैल को छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सलियों ने एक मुठभेड़ में बाईस जवानों की निर्ममतापूर्वक हत्या कर दी थी।

प्रकृति के स्तंभ

महासागर एक ओर हमारी धरती पर जीवन का एक प्रतीक है तो दूसरी ओर यह पर्यावरण संतुलन में भी अपनी मुख्य भूमिका अदा करते...

दूरी की दीवारें

आज की भागदौड़ और व्यस्त जीवनशैली में किसी के पास इतना समय नहीं है कि सभी रिश्तेदारों से हर रोज मिले। ये अवसर केवल...

आभासी संजाल

डिजिटल मीडिया की अपनी उपयोगिता है और यह कहना गलत होगा कि यह एक सार्वभौमिक रूप से बुरी चीज है, क्योंकि स्पष्ट रूप से...

स्त्री की सेहत

कहने को हम सब आज इक्कीसवीं सदी में जी रहे हैं। इस सदी में महिलाएं आगे बढ़ रही हैं, खुलकर अपने विचार को रख...

अंधविश्वास की बीमारी

हमारे देश मे अंधविश्वास की जड़ें कितनी गहरी और मजबूत है, यह इससे पता चलता है कि कोरोना जैसी जानलेवा बीमारी के बावजूद कुछ...

नाहक दखल

आम तौर पर कानून में संशोधन या प्रस्ताव लाने की आवश्यकता उस जगह होती है, जहां लोग अपने आप को असहज महसूस करते हों...

अच्छी पहल

मध्यप्रदेश में नए मकान के निर्माण के लिए अनुमति तब दी जाएगी, जब पौधे लगाए जाएंगे। मौजूदा समय के बहुस्तरीय संकट को देखते हुए...

अभिव्यक्ति पर अंकुश

संविधान ने मौलिक अधिकारों की सूची में अभिव्यक्ति की आजादी को कतिपय प्रतिबंधो के साथ निरूपित किया है। आपातकाल में इस अधिकार को स्वतंत्रता...

भावी खतरा

तमाम उपायों और चिंता के बावजूद पर्यावरण का संकट हमारे लिए एक चुनौती के रूप में कायम है! संरक्षण के लिए अब तक बने...

व्यक्तिवाद की सीमा

यह अत्यंत दुखद है कि विभिन्न राजनीतिकों के कथन को आम नागरिकों द्वारा पूर्ण रूप से प्रामाणिक नहीं माना जाता। निरंतर अनर्गल प्रलाप, तथ्यहीन...

बच्चों की सुरक्षा

महामारी की दूसरी लहर से दुनिया अभी पिंड छुड़ा भी नहीं पाई है कि तीसरी लहर की आशंका ने सभी देशों को चिंता में...

ईंधन में आग

भारत जहां एक ओर कोरोना और कवक संक्रमण जैसी महामारी से जूझ रहा है, वहीं दूसरी ओर तेजी से बढ़ रहे पेट्रोल और डीजल...

ये पढ़ा क्या?
X