चौपाल

चौपाल: मनमानी पर अंकुश, संवैधानिक बाध्यता व अपराध के विरुद्ध

देश में सुधार के लिए लाखों सूचना प्राप्ति केंद्र होने चाहिए जहां कहीं का निवासी कभी भी कैसी भी सूचना लिखित में दे सके।

चौपाल: रोजगार का सपना

चपरासी और लिपिक जैसी परीक्षा के आवेदन के लिए पांच-सात सौ रुपए का भुगतान करना पड़ता है।

चौपाल: इंटरनेट प्रदूषण व दिखावे का सरोकार

अकेले यूनाइटेड किंगडम में हर रोज 64 मिलियन बेकार मेल भेजे जाते हैं।

चौपाल: किसका विकास

सूचकांक किसी देश के लोगों के स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार और सामाजिक सुरक्षा को ध्यान में रखकर बनाया जाता है।

चौपाल: चीन की राह व हिंदी का भविष्य

जब पुतिन ने संविधान में बदलाव के प्रस्ताव रखे तो शायद ही कोई ऐसा होगा जिसे हैरानी न हो।

चौपाल: जल बिन कल व दो चेहरे

जल की इतनी महत्ता के बावजूद हमारी भूलों का ही परिणाम है कि आज धरती पर जल संकट खड़ा हो गया है।

चौपाल: स्वास्थ्य की सुध व विरोध और राजनीति

भारत में स्वास्थ्य के क्षेत्र में काफी प्रगति हुई है, पर अभी भी इस क्षेत्र में काफी काम बाकी है।

चौपाल: रहने लायक व प्रदूषण का जहर

भारत में लड़कियों और महिलाओं के साथ बलात्कार, जघन्य हत्या और मानव तस्करी की अनवरत घटनाएं हो रही हैं।

चौपाल: त्रासदी की आशंका

देश का पहला अस्थायी डिटेंशन सेंटर ग्वालपाड़ा जेल में स्थापित किया गया। हाल में डिटेंशन सेंटर का उपयोग एनआरसी के तहत बाहर किए गए...

चौपाल: कश्मीरी पंडितों का दर्द

उच्च न्यायलय ने भी कश्मीरी पंडितों की उस याचिका पर विचार करने से मना कर दिया था, जिसमें पंडितों पर हुए अत्याचारों की जांच...

चौपाल: तार-तार भरोसा

देविंदर सिंह को आतंकवादियों के साथ एक संदिग्ध कार में अवैध हथियारों के साथ गिरफ्तार किया। उनमें एक आतंकवादी सैयद नवीद मुश्ताक, दूसरा आसिफ...

चौपाल: किसका गुनाह

दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में चंद्रशेखर ‘आजाद’ की जमानत पर सुनवाई के दौरान माननीया जज की टिप्पणियों ने जो कुछ उम्मीद जगाई थी,...

चौपाल: असुरक्षित स्त्री

ये आंकड़े हमें बता रहे हैं कि हमारे देश में महिलाओं की क्या स्थिति है और वे कितनी सुरक्षित हैं। हमारा देश जो कि...

चौपाल: अभिव्यक्ति का हक

सुप्रीम कोर्ट ने इस मौलिक अधिकार की पुनर्स्थापना के लिए बहुत स्पष्ट और कठोर निर्देश देते और सरकारों को लताड़ते हुए कहा है कि...

चौपाल: किसानी का संकट

एनएसएसओ के रिपोर्ट के अनुसार 2001 से 2011 के बीच लगभग नब्बे लाख किसानों ने खेती करना छोड़ दिया। यह आंकड़ा दिनों दिन बढ़ता...

चौपाल: चिंता की बात

देश न तो छपाक से चलेगा और न जामिया-जेएनयू पर राजनीति से बढ़ेगा। देश का विकास तभी होगा, जब अर्थव्यवस्था का विकास होगा। जिन...

चौपाल: बेहतरी के स्कूल व डिजिटल मुश्किल

आज अन्य राज्य सरकारों से भी यह उम्मीद है कि वे प्रेरणा लेकर सरकारी स्कूलों की दशा सुधारने की कोशिश करे।

चौपाल: महंगाई की पीड़ा व चीन का सिरदर्द

सरकार हर साल घाटे का बजट बढ़ा देती है, जिससे कीमतें भी बढ़ जाती हैं। इसका परिणाम यह निकलता है कि रुपए की कीमत...

ये पढ़ा क्‍या!
X