अब पेटीएम और फोनपे को टक्कर देगा फूड डिलिवरी प्लेटफॉर्म जोमैटो, इस नए कारोबार में रखा कदम

Zomato: फूड डिलिवरी प्लेटफॉर्म जोमैटो जुलाई में अपना आईपीओ लेकर आया था। इस आईपीओ को निवेशकों का बेहतर रेस्पॉन्स मिला था। इससे उत्साहित होकर जोमैटो ने जोमैटो ने जोमैटो पेमेंट्स प्राइवेट लिमिटेड नाम से नई कंपनी का गठन किया है।

zomato ipo, zomato ipo date, zomato ipo news
जोमैटो करीब 8,250 करोड़ रुपये जुटा सकती है।

इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) की सफलता के बाद फूड डिलिवरी प्लेटफॉर्म जोमैटो ने अब डिजिटल पेमेंट कंपनी पेटीएम, फोनपे और गूगल पे को टक्कर देने की तैयारी कर ली है। दरअसल, जोमैटो ने डिजिटल पेमेंट कारोबार कदम रख दिया है। इसके लिए जोमैटो ने जोमैटो पेमेंट्स प्राइवेट लिमिटेड नाम से नई कंपनी का गठन किया है।

जोमैटो ने रेगुलेटरी फाइलिंग में कहा है कि इस नई कंपनी के जरिए पेमेंट एग्रीगेटर और पेमेंट गेटवे से जुड़ी सेवाएं दी जाएंगी। यह सेवाएं रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के नियमों के अनुसार दी जाएंगी। जोमैटो पेमेंट्स प्राइवेट लिमिटेड की शुरुआत 10 हजार इक्विटी शेयरों के जरिए की गई है। इन शेयरों की फेस वैल्यू 10 रुपए प्रति यूनिट तय की गई है। इनकी कुल वैल्यू 1 लाख रुपए होती है।

जोमैटो ने आईपीओ से जुटाए 8 हजार करोड़ से ज्यादा: फूड डिलिवरी प्लेटफॉर्म पिछले महीने यानी जुलाई में ही आईपीओ लेकर आई है। इस आईपीओ के जरिए कंपनी ने 8 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि जुटाई है। जोमैटो के आईपीओ को निवेशकों का जबरदस्त रेस्पॉन्स मिला है। आईपीओ के दौरान जोमैटो के शेयरों को कई गुना सब्सक्रिप्शन मिला था। जोमैटो का यह आईपीओ 14 जुलाई को खुला था। इस आईपीओ में प्राइस बैंड 72-76 रुपए प्रति शेयर रखा गया था। आईपीओ से पहले जोमैटो ने एंकर निवेशकों से 4,196.51 करोड़ रुपए जुटाए थे।

लिस्टिंग के बाद दिया 85 फीसदी तक का रिटर्न: जोमैटो के शेयर स्टॉक मार्केट में बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। लिस्टिंग के बाद कंपनी के शेयरों ने निवेशकों को 85 फीसदी तक का रिटर्न दिया है। इसके बाद कई ब्रोकरेज हाउसेज ने जोमैटो के शेयर पर अगले एक साल में 170 रुपए तक का टार्गेट किया है। अब तक जोमैटो के शेयर ने 147.80 रुपए प्रति यूनिट का उच्चतम स्तर का आंकड़ा छू लिया है। गुरुवार सुबह करीब 11.16 बजे जोमैटो के शेयर बंबई स्टॉक एक्सचेंज में 3.62 फीसदी की गिरावट के साथ 133.30 रुपए प्रति यूनिट पर कारोबार कर रहे थे।

यूपीआई ट्रांजेक्शन में फोनपे का दबदबा: नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के ताजा डाटा के मुताबिक, यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) आधारित पेमेंट सिस्टम में फोनपे का दबदबा है। कुल यूपीआई ट्रांजेक्शन में फोनपे की 46.04 फीसदी हिस्सेदारी है। वहीं, सर्च इंजन गूगल की पेमेंट सब्सिडियरी गूगलपे की यूपीआई ट्रांजेक्शन में 34.63 फीसदी हिस्सेदारी है। पेटीएम की यूपीआई पेमेंट में 11.63 फीसदी, अमेजन पे की 1.83 फीसदी और यस बैंक के पेमेंट ऐप की 0.88 फीसदी हिस्सेदारी है।

पढें व्यापार समाचार (Business News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट