scorecardresearch

Blinkit को 4,447 करोड़ में खरीदने के लिए Zomato बोर्ड ने दी मंजूरी, जानें किसके हिस्‍से में कितने शेयर?

इस‍ डील को लेकर अनुमान लगाया जा रहा था कि ब्लिंकिट का सौदा 700 मिलियन डॉलर से भी अधिक होगा, लेकिन जोमैटो के शेयरों में तेजी से गिरावट के कारण इसकी डील 568 मिलियन डॉलर कम कर दिया।

Zomato | Blinkit | Business News
Zomato ने ब्लिंकिट को 4,447 करोड़ रुपए में खरीदने की डील की। (फाइल फोटो)

फूड डिलीवरी कंपनी Zomato कंपनी अरबों का डील करने जा रही है। इसके लिए कंपनी के बोर्ड से मंजूरी मिल चुकी है। Zomato क्विक कॉमर्स कंपनी ब्लिंकिट के सभी शेयर 4,447 करोड़ रुपए में खरीदने की डील की है। शुक्रवार को इसे बोर्ड की तरफ से अनुमति दी जा चुकी है। इसके अलावा Zomato की रेस्‍टोरेंट सप्‍लाई सहायक कंपनी Hyperpure 60.7 करोड़ रुपए में Hands on Trade Private Limited के वेयरहाउसिंग और सहायक सेवाओं के कारोबार का भी अधिग्रहण करेगी।

इस‍ डील को लेकर अनुमान लगाया जा रहा था कि ब्लिंकिट का सौदा 700 मिलियन डॉलर से भी अधिक होगा, लेकिन जोमैटो के शेयरों में तेजी से गिरावट के कारण इसकी डील 568 मिलियन डॉलर कम कर दिया।

जोमैटो के सीईओ दीपिंदर गोयल ने कहा कि क्विक कॉमर्स बिजनेस पिछले एक साल से हमारी घोषित रणनीतिक प्राथमिकता रही है। हमने इस उद्योग को भारत और विश्व स्तर पर तेजी से बढ़ते देखा है, क्योंकि ग्राहकों को किराने का सामान और अन्य आवश्यक वस्तुओं की त्वरित डिलीवरी में बहुत अच्छा मूल्य मिला है। उन्‍होंने कहा कि यह व्यवसाय हमारे मुख्य खाद्य व्यवसाय को बढ़ावा देगा। उन्‍होंने कहा कि यह अगली बड़ी श्रेणी में समय-समय पर है क्योंकि हमारा मौजूदा खाद्य व्यवसाय लगातार लाभप्रदता की ओर बढ़ रहा है।

किसकों कितने शेयर
गौरतलब है कि ब्लिंकिट ने वित्त वर्ष 2012 में 263 करोड़ रुपए, वित्त वर्ष 2011 में 200 करोड़ रुपए और वित्त वर्ष 2010 में 165 करोड़ रुपए का कारोबार किया है। सौदे की शर्तों के मुताबिक, ब्लिंकिट के सबसे बड़े शेयरधारक सॉफ्टबैंक को जोमैटो के 28.71 करोड़ शेयर मिलेंगे, टाइगर ग्लोबल को 12.34 करोड़ शेयर, बीसीसीएल को 1.5 करोड़ शेयर और दक्षिण कोरियाई निवेशक डीएओएल को 3.66 करोड़ शेयर मिलेंगे।

Zomato 100 मिलियन डॉलर
Zomato में Sequoia की हिस्सेदारी 1.33 करोड़ शेयरों से बढ़कर 5.84 करोड़ शेयर हो जाएगी क्योंकि उसे कंपनी में 4.51 करोड़ नए शेयर मिलेंगे। पिछले साल अगस्त में ब्लिंकिट (तब ग्रोफर्स) ने एक दौर में जोमैटो से 100 मिलियन डॉलर जुटाए थे, जिससे कंपनी को यूनिकॉर्न का दर्जा मिला।

अभी पूरी राशि नहीं दी गई
इसके बाद, Zomato ने मूल कंपनी Grofers India Private Limited (GIPL) को 150 मिलियन डॉलर के लोन के माध्यम से कैश-स्ट्रैप्ड ब्लिंकिट की लिमिट भी बढ़ा थी। फूड डिलीवरी कंपनी ने हाल ही में अपने अर्निंग कॉल में कहा कि पूरी राशि का वितरण नहीं किया गया है, और बाकी कंपनी को इसकी आवश्यकता के आधार पर दिया जाएगा।

शेयरों में दिखी उछाल
Zomato के लिए, ब्लिंकिट 2020 और 2021 में सेगमेंट से दो बार पीछे हटने के बाद ग्रॉसरी स्पेस में प्रवेश करने का एक अंतिम प्रयास है। पिछले साल, कंपनी ने कहा था कि भविष्य में ग्रोसरी स्पेस पर उसका दांव उसके निवेश के माध्यम से होगा। इस डील की चर्चा के बाद बीएसई पर शुक्रवार को जोमैटो का शेयर 1.15 फीसदी बढ़कर 70.35 रुपये पर पहुंच गया।

पढें व्यापार (Business News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट