ताज़ा खबर
 

मुकेश अंबानी की रिलायंस ने लिया ये बड़ा फैसला, बढ़ेगी एलन मस्क की टेंशन!

टेस्ला के सीईओ एलन मस्क की बात करें तो तो उनकी संपत्ति 184 बिलियन डॉलर है।रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी की दौलत 80 बिलियन डॉलर के स्तर पर है।

elon musk, tesla, mukesh ambaniएलन मस्क की संपत्ति 184 बिलियन डॉलर है (Photo-indian express )

मुकेश अंबानी के रिलायंस इंडस्ट्रीज की सब्सिडियरी कंपनी रिलायंस स्ट्रेटेजिक बिजनस वेंचर्स लिमिटेड (RSBVL) ने एक बड़ा फैसला लिया है। इस फैसले के बाद दुनिया के टॉप अरबपति एलन मस्क की टेंशन बढ़ सकती है।

क्या है मामला: दरअसल, रिलायंस स्ट्रेटेजिक बिजनस वेंचर्स लिमिटेड (RSBVL) ने स्काईट्रान इनकॉर्पोरेशन (skyTran Inc) में कुछ अतिरिक्त हिस्सेदारी खरीदी है। ये हिस्सेदारी करीब 2.67 करोड़ डॉलर में खरीदी है। इसी के साथ RSBVL की इस अमेरिकी कंपनी में हिस्सेदारी बढ़कर 54.46 फीसदी हो गई है। पहले ये हिस्सेदारी 26.3 फीसदी थी।

एलन मस्क के लिए टेंशन क्यों: स्काईट्रान ने दुनिया भर को ट्रैफिक जाम से निजात दिलाने के लिए एक खास टेक्नोलॉजी तैयार की है। स्काईट्रान और एलन मस्क की कंपनी हाइपरलूप, दोनों पॉड टैक्सी बनाने के व्यवसाय में हैं। ये एक प्रकार की छोटी सार्वजनिक परिवहन सुविधा होती है, जिसमें छोटे स्वचालित वाहन होते हैं जो विशेष रूप से निर्मित ट्रैकों के नेटवर्क के भीतर काम करते हैं।

बिजनेस इनसाइडर की खबर के मुताबिक हाइपरलूप, पहले से ही भारत में तीन परियोजनाओं पर काम कर रही है। अब मुकेश अंबानी के निवेश के बाद ये कयास लगाए जा रहे हैं कि इस कारोबार में एलन मस्क की कंपनी हाइपरलूप को टक्कर मिल सकती है।

एलन मस्क vs मुकेश अंबानी: टेस्ला के सीईओ एलन मस्क की बात करें तो तो उनकी संपत्ति 184 बिलियन डॉलर है। ब्लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्स के मुताबिक वह दौलतमंद अरबपतियों की सूची में दूसरे स्थान पर हैं। वहीं, रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी की दौलत 80 बिलियन डॉलर के स्तर पर है। मुकेश अंबानी सूची में 11वें स्थान पर हैं।

बता दें कि एलन मस्क की इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली कंपनी टेस्ला की कार भारत में आने वाली है। इस कंपनी का रजिस्ट्रेशन बेंगलुरु में हुआ है। हालांकि, कंपनी ने अब तक ये नहीं बताया है कि कौन सी कार की लॉन्चिंग पहले होगी।

Next Stories
1 सरकार बेच रही शिपिंग कॉरपोरेशन की हिस्सेदारी, खरीदने वालों की रेस में ब्रिटेन की कंपनी भी शामिल
2 भारत-चीन कारोबार : तनाव के दौर में कैसे बढ़ गई चीनी भागीदारी
3 स्पेक्ट्रम नीलामी के बीच Airtel के निवेशकों को बड़ा नुकसान, ​रिलायंस का ये रहा हाल
ये पढ़ा क्या?
X