ताज़ा खबर
 

विप्रो का Q3 का मुनाफा 5.8% घटकर ₹2114 करोड़

विप्रो की आईटी सेवा आय तिमाही दर तिमाही आधार पर 0.7 प्रतिशत घटकर 190.28 करोड़ डॉलर रह गई।

Author बेंगलुरु | January 25, 2017 7:23 PM
विप्रो भारत की तीसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी है। (फाइल फोटो)

देश की तीसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर सेवा कंपनी विप्रो का एकीकृत शुद्ध लाभ दिसंबर में समाप्त चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में 5.8 प्रतिशत घटकर 2,114.8 करोड़ रुपए पर आ गया। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 2,246 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया था। बंबई शेयर बाजार को भेजी सूचना में कंपनी ने कहा कि तिमाही के दौरान उसकी आमदनी 6.2 प्रतिशत बढ़कर 13,764.5 करोड़ रुपए पर पहुंच गई, जो एक साल पहले समान तिमाही में 12,951.6 करोड़ रुपए थी। कंपनी के नतीजे भारतीय लेखा मानकों पर आधारित हैं। विप्रो की आईटी सेवा आय तिमाही दर तिमाही आधार पर 0.7 प्रतिशत घटकर 190.28 करोड़ डॉलर रह गई। हालांकि सालाना आधार पर इसमें 3.5 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई।

हालांकि, यह कंपनी के 191.6 से 195.5 करोड़ डॉलर के अनुमान से कम है। मार्च, 2017 की तिमाही में कंपनी को आईटी सेवाओं से आमदनी 192.2 से 194.1 करोड़ डॉलर रहने की उम्मीद है। विप्रो के निदेशक मंडल ने दो रुपए प्रति शेयर के अंतरिम लाभांश की मंजूरी दी है। इस बीच मुंबई से मिली खबरों के अनुसार विप्रो ने ब्राजील के बाजार पर केंद्रित आईटी सेवा प्रदाता इन्फोसर्वर एसए का 87 लाख डॉलर में अधिग्रहण करने के लिए करार किया है। इन्फोसर्वर के ग्राहकों में ब्राजील के कुछ बड़े बैंक शामिल हैं। इस अधिग्रहण से विप्रो को वहां के बेहद परंपरागत तथा प्रतिस्पर्धी बैंकिंग, वित्तीय सेवा क्षेत्र के अलावा बीमा बाजार में अपनी पैठ बनाने में मदद मिलेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X