ताज़ा खबर
 

दानवीरों की लिस्ट में टॉप पर अजीम प्रेमजी, कई दिग्गज घराने मिलकर भी बराबर नहीं, देखें पूरी लिस्ट

सूची में पांचवें नम्बर पर अनिल अग्रवाल 215 करोड़ रुपये, अजय पिरामल 196 करोड़ रुपये के साथ छठे नम्बर पर और नंदन निलकनी और हिन्दूजा ब्रदर्ज क्रमशः 196 और 159 करोड़ रुपये के साथ सातवें व आठवें नम्बर पर आए हैं।

azim premjiविप्रो के पूर्व चेयरमैन अजीम प्रेमजी

आईटी सेक्टर के दिग्गज चेहरे और विप्रो के पूर्व चेयरमैन देश के दानवीरों की लिस्ट में पहले स्थान पर आए हैं। 75 वर्षीय अजीम प्रेमजी ने 7,904 करोड़ रुपये का दान 2020 में किया है। EdelGive Hurun India Philanthropy List 2020 में यह बात कही गई है। भले ही देश के अमीरों में अजीम प्रेमजी 5वें नंबर पर हैं, लेकिन दानवीरता में उन्होंने मुकेश अंबानी समेत तमाम अमीरों को पीछे छोड़ दिया है। एचसीएल के फाउंडर चेयरमैन शिव नाडर दानवीरता में दूसरे स्थान पर रहे हैं, जबकि मुकेश अंबानी ने तीसरा स्थान हासिल किया है। उनके बाद कुमार मंगलम बिड़ला और वेदांता के चेयरमैन अनिल अंग्रवाल का स्थान है।

अजीम प्रेमजी के अलावा एडलिव ह्यूरन इंडिया फिलैंथ्रॉपी की 2020 की रिपोर्ट में 9 अन्य हस्तियां शामिल हैं, जिन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में सबसे ज्यादा रुपये दान किए हैं। इस लिस्ट में दूसरे नम्बर पर शिव नादर और उनका परिवार दूसरे नम्बर पर है, उन्होंने 795 करोड़ रुपये शिक्षा के क्षेत्र में दान किए हैं। जबकि तीसरे और चौथे नम्बर पर क्रमशः रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने आपदा प्रबंधन के लिए 458 करोड़ रुपये और कुमार मंगलम बिरला ने शिक्षा के लिए 276 करोड़ रुपये दान किए हैं।

सूची में पांचवें नम्बर पर अनिल अग्रवाल 215 करोड़ रुपये, अजय पिरामल 196 करोड़ रुपये के साथ छठे नम्बर पर और नंदन निलकनी और हिन्दूजा ब्रदर्ज क्रमशः 196 और 159 करोड़ रुपये के साथ सातवें व आठवें नम्बर पर आए हैं। अडानी ग्रुप के गौतम अडानी 88 करोड़ रुपये के साथ शीर्ष नौ और राहुल बजाज 74 करोड़ रुपये के साथ दसवें नम्बर पर आए हैं। रिपोर्ट की मानें तो दानवीरों की इस पूरी सूची में 7 महिलाओं ने जगह हासिल की है। जिसमें रोहिणी नीलेकणी 47 करोड़ रुपये दान के साथ भारत की सबसे बड़ी दानवीर महिला बनी जिसके बाद अनु आगा और थर्मैक्स परिवार 36 करोड़ रुपये और बायोकॉन के किरण मजूमदार शॉ 34 करोड़ रुपये के साथ शामिल है।

एडलिव फाउंडेशन के मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष विद्या शाह का कहना है कि ‘हमें लगता है कि शिक्षा समानता प्रदान करने का सबसे अच्छा तरीका है और कमाने, बेहतर गुणवत्ता वाले जीवन जीने और बेहतर स्वास्थ्य सेवा तक पहुंच का मौका देती है’। रिपोर्ट बताती है कि पिछले सात वर्षों से भारत के शीर्ष दानवीर लोगों ने शिक्षा के क्षेत्र पर जोर दिया है। 2020 में 90 दानवीरों ने कुल मिलाकर 9,324 करोड़ रुपये का दान दिया है। जबकि 84 दानियों ने 667 करोड़ का दान दिया है। जबकि आपदा राहत और प्रबंधन, जिसमें 41 दानदाताओं ने कुल 354 करोड़ रुपये का दान दिया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बैंक के हर खाते का आधार कार्ड से जुड़ना जरूरी, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अब दिया यह आदेश
2 दिवाली पर सिर्फ दीया खरीदना ही ‘वोकल फॉर लोकल’ नहीं, पीएम नरेंद्र मोदी ने की अब यह अपील
3 कभी खुद नौकरी करते थे हरि मेनन, कई बार फेल होने के बाद खड़ी की बिग बास्केट, आज 3200 करोड़ से ज्यादा का है टर्नओवर
यह पढ़ा क्या?
X