ताज़ा खबर
 

वोडाफोन इंडिया ने किया 47,700 करोड़ रुपए का निवेश

वोडाफोन इंडिया आईपीओ की तैयारी कर रही है।

Author मुंबई | September 22, 2016 9:44 PM
Vodafone Recharge Plan: देश में दूसरी सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी वोडाफोन। (File Photo)

स्पेक्ट्रम की बड़ी नीलामी और रिलायंस जियो के भारतीय दूरसंचार बाजार में उतरने से उत्पन्न कड़ी प्रतिस्पर्धा के बीच वोडाफोन ने अपनी भारतीय इकाई में पूंजी आधार को मजबूत बनाने के लिए अप्रैल के बाद से 47,700 करोड़ रुपए डाले हैं। वोडाफोन इंडिया के प्रबंध निदेशक व मुख्य कार्यकारी सुनील सूद ने यहां संवाददाताओं को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा, ‘हम अब तक का सबसे बड़ा एफडीआई लाए हैं, देश में 47,700 करोड़ रुपए का इक्विटी निवेश किया गया है और इससे वोडाफोन इंडिया के कारोबार को मजबूत बनाने में मदद मिलेगी।’ मूल कंपनी ने वोडाफोन इंडिया में यह निवेश इस साल अप्रैल से किया है। इस धन का इस्तेमाल कर्ज चुकाने, अगले सप्ताह शुरू होने वाली स्पेक्ट्रम नीलामी में बोली लगाने, नेटवर्क के विस्तार तथा अगली पीढ़ी की प्रौद्योगिकी में निवेश में किया जाएगा। वोडाफोन इंडिया आईपीओ की तैयारी कर रही है। उसका ऋण 29,000 करोड़ रुपए है जो कि इसके पूंजी आधार का आधा है।

उल्लेखनीय है कि रिलायंस जियो ने 1.5 लाख करोड़ रुपए के निवेश के साथ 5 सितंबर को अपनी 4जी सेवाओं की शुरुआत कर देश के दूरसंचार उद्योग में हलचल मचा दी है। कंपनी ने नि:शुल्क वॉयस कॉल के साथ साथ सस्ते डेटा प्लान की घोषणा की है। सूद ने यह खुलासा तो नहीं किया कि कंपनी इस कड़ी प्रतिस्पर्धा का मुकाबला कैसे करेगी लेकिन कहा कि वह अगले सप्ताह से अनेक कदमों की घोषणा करेगी। जियो के बारे में पूछे जाने पर सूद ने कहा, ‘हमारा मानना है कि हम यहां लंबे समय के लिए हैं। कंपनी के रूप में हम यहां लंबे समय से हैं। हमारे 20 करोड़ उपयोक्ता हैं और पहली तिमाही में हमारी बाजार भागीदारी 0.6 प्रतिशत बढ़ी।’ उन्होंने कहा कि वोडाफोन इंडिया ग्राहकों के लिए ‘वहनीय कीमत’ सहित जो भी जरूरत होगी, कदम उठाएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App