28 करोड़ ग्राहकों के लिए अपना हिस्सा बैंकों को फ्री में देने के लिए तैयार हैं वोडाफोन और बिरला ग्रुप, एयरटेल ने कह डाली ये बड़ी बात

Vodafone Idea Limited: देश की तीसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया पर 1.80 लाख करोड़ रुपए का कर्ज है। इसमें 50 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का एजीआर संबंधी बकाया भी शामिल है। वोडाफोन की दोनों प्रमोटर कंपनी आदित्य बिरला ग्रुप और वोडाफोन पीएलसी ने अपनी हिस्सेदारी मुफ्त देने की पेशकश की है।

Vodafone Idea, Vodafone
ग्राहकों की संख्या के लिहाज से वोडाफोन आइडिया देश की तीसरी सबसे बड़ी कंपनी है।

1.80 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा के कर्ज के बोझ तले दबी टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया को बचाने के लिए हरसंभव प्रयास किया जा रहा है। ग्राहकों के हित को देखते हुए कुमार मंगलम बिरला ने वोडाफोन आइडिया की अपनी हिस्सेदारी सरकार या अन्य कंपनियों को देने का प्रस्ताव दिया है।

अब दूसरी प्रमोटर कंपनी वोडाफोन पीएलसी भी वोडाफोन आइडिया को बचाने के लिए सामने आई है। बैंकिंग सूत्रों के हवाले से बिजनेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि वोडाफोन पीएलसी, वोडाफोन आइडिया में अपनी हिस्सेदारी कर्ज देने वाले बैंकों और सरकारी टेलीकॉम कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) को मुफ्त में देने के लिए तैयार है। वोडाफोन आइडिया में वोडाफोन पीएलसी की 45 फीसदी हिस्सेदारी है।

ऑफर्स पर विचार कर रहे हैं बैंक: वोडाफोन आइडिया को कर्ज देने वाले बैंकों से जुड़े सूत्रों का कहना है कि यदि बीएसएनएल वोडाफोन आइडिया का अधिग्रहण कर लेती है तो बकाया सरकारी कर्ज बीएसएनएल-वोडाफोन आइडिया पर आ जाएगा। सूत्रों के मुताबिक, वोडाफोन पीएलसी और आदित्य बिरला ग्रुप ने वोडाफोन आइडिया को बचाने के लिए अलग-अलग ऑफर दिए हैं। इन ऑफर्स पर अलग-अलग पैरामीटर्स को ध्यान में रखकर विचार किया जा रहा है।

कुमार मंगलम बिरला ने भी दिया है हिस्सेदारी देने का ऑफर: आदित्य बिरला ग्रुप के चेयरमैन कुमार मंगलम बिरला की वोडाफोन आइडिया में 27 फीसदी की हिस्सेदारी है। बिरला ने जून में कैबिनेट सचिव राजीव गाबा को पत्र लिखकर वोडाफोन आइडिया की अपनी पूरी हिस्सेदारी सरकार या सरकारी कंपनी या अन्य इक्विटी कंपनी को देने का ऑफर दिया था। हालांकि, अभी बिरला के ऑफर को लेकर सरकार की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

वोडाफोन आइडिया के गैर कार्यकारी अध्यक्ष पद से हटे बिरला: वोडाफोन आइडिया में से अपनी हिस्सेदारी देने की खबरों के बाद कुमार मंगलम बिरला कंपनी के गैर कार्यकारी अध्यक्ष पद से हट गए हैं। वोडाफोन आइडिया की ओर से स्टॉक एक्सचेंज को दी गई जानकारी में कहा गया है कि आदित्य बिरला समूह की ओर से नामित हिमांशु कपानिया को गैर-कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया है।

एयरटेल के सीईओ ने कहा- टेलीकॉम सेक्टर की मदद करे सरकार: वोडाफोन आइडिया पर संकट की खबरों के बीच भारती एयरटेल के सीईओ गोपाल विट्ठल ने कहा है कि भारत जैसे बड़े देशों में टेलीकॉम सेक्टर में तीन निजी कंपनियों की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि सरकार को वित्तीय संकट से जूझ रहे टेलीकॉम सेक्टर की मदद के लिए सामने आना चाहिए। एनालिस्ट्स के सवालों का जवाब देते हुए विट्ठल ने कहा कि यदि स्थिति बनती है तो एयरटेल दो कंपनियों वाले टेलीकॉम मार्केट के लिए तैयार है।

देश की तीसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी है वोडाफोन आइडिया: ग्राहकों के लिहाज से वोडाफोन आइडिया देश की तीसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी है। ट्राई के डाटा के मुताबिक, 42.76 करोड़ ग्राहकों के साथ रिलायंस जियो पहले, 35.29 करोड़ ग्राहकों के साथ भारती एयरटेल दूसरे और 28.19 करोड़ ग्राहकों के साथ वोडाफोन आइडिया तीसरे स्थान पर है।

पढें व्यापार समाचार (Business News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट